नई दिल्ली @ दवा के नाम पर हो रहे हैं करोड़ों के घोटाले

34
Share


आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी ने खोला दिल्ली नगर निगम में हुए भ्रष्टाचार का पोल


नई दिल्ली, 18 नवंबर 2021 (ए) ।
आम आदमी पार्टी के विधायक आतिशी ने कहा कि भाजपा ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाने पर आम आदमी पार्टी के पार्षदों को निलंबित कर दिया है। आम आदमी पार्टी के पार्षदों ने जब पूछा कि दिल्ली में डेंगू-मलेरिया इतना क्यों फैला हुआ है तो उसका जवाब देने से बचने के लिए पार्षदों को निलंबित कर दिया। जब भाजपा शासित एमसीडी में भ्रष्टाचार-कुशासन का मुद्दा आम आदमी पार्टी के पार्षद उठाते हैं तो भाजपा उनकी आवाज को दबाने के लिए निलंबित कर देती है। भाजपा के मेयर ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम में पार्षदों को गलत तरीके से निलंबित किया है, इसके खिलाफ कोर्ट जाएंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा शासित एमसीडी ने भ्रष्टाचार-कुशासन कम करने, डेंगू मलेरिया से बचाव के उपाय करने, साफ-सफाई और पार्क का रखरखाव करने की दिशा में कोई काम नहीं किया। पूर्वी दिल्ली नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष मनोज त्यागी ने कहा कि डेंगू-मलेरिया सहित अन्य बीमारियों पर निष्पक्ष चर्चा की मांग करने पर आम आदमी पार्टी के पार्षदों को निलंबित किया गया है। भाजपा के पार्षदों ने आम आदमी पार्टी की महिला पार्षदों पर अभद्र टिप्पणियां की जो कि बेहद ही शर्मनाक है। जिस तरह से पहले कोर्ट ने हमें सदन में शामिल करने का आदेश दिया था। उसी तरीके से दोबारा से कोर्ट हमारे पक्ष में निर्णय देगी।आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता और विधायक आतिशी ने पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित किया। विधायक आतिशी ने कहा कि दिल्ली में भाजपा शासित एमसीडी के भ्रष्टाचार-कुशासन को आम आदमी पार्टी बार-बार उजागर करती आई है। एमसीडी में किस तरह से हजारों करोड रुपए के घोटाले हुए, एमसीडी किस तरह से डेंगू- क्षमलेरिया से दिल्ली की जनता को बचाने की जिम्मेदारी को निभाने में नाकाम रही है, उसका पर्दाफाश आम आदमी पार्टी ने किया है। लेकिन उससे भाजपा के कान पर जूं नहीं रेंग रही है। भाजपा शासित एमसीडी ने भ्रष्टाचार-कुशासन कम करने, डेंगू मलेरिया से बचाव के उपाय करने, साफ-सफाई और पार्क का रखरखाव करने की दिशा में कोई काम नहीं किया। भाजपा को सिर्फ एक काम करना है कि भ्रष्टाचार-कुशासन पर कोई बात ना करे।
उन्होंने कहा कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के सदन में यह बार-बार देख रहे हैं कि जब भी वहां पर आम आदमी पार्टी के पार्षद भाजपा के भ्रष्टाचार-कुशासन का मुद्दा उठाते हैं तो भाजपा जवाब नहीं देती है और ना ही अपने पार्षदों के भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कोई कार्रवाई करती है। इसके उलट भाजपा सदन में भ्रष्टाचार की आवाज उठाने वाले आम आदमी पार्टी के पार्षदों को निलंबित कर देती है। यह निलंबन की प्रक्रिया पूरी तरह से अवैध होती है। भाजपा चाहती है कि उनके भ्रष्टाचार को उजागर ना करें। उनके भ्रष्टाचार की बात दबी रहे और उनकी जेब भरती रहे।विधायक आतिशी ने कहा कि पिछले महीने अक्टूबर में पूर्वी दिल्ली नगर निगम में भ्रष्टाचार का मुद्दा आम आदमी पार्टी के पार्षदों ने उठाया तो उन्हें 15 दिन के लिए निलंबित कर दिया गया। यह निलंबन बिल्कुल अवैध होता है। इसके खिलाफ जब कोर्ट गए तो तुरंत बिल्कुल यही कहा और उस निलंबन को निरस्त किया। पूर्वी दिल्ली नगर निगम को कोर्ट ने आदेश दिया कि आम आदमी पार्टी के पार्षदों को सदन में बिठाया जाए। इस बार फिर कल पूर्वी दिल्ली नगर निगम के सदन में यही हुआ है। आम आदमी पार्टी के पार्षदों ने जब कहा की डेंगू के मुद्दे पर चर्चा करनी है और हम पूछना चाहते हैं कि दिल्ली में लोग डेंगू से क्यों मर रहे हैं। दिल्ली में डेंगू इतना क्यों फैला हुआ है। एमसीडी अपनी जिम्मेदारी क्यों नहीं निभाई। जब इन मुद्दों को आम आदमी पार्टी के पार्षदों ने सदन में उठाया तो भाजपा ने इसका जवाब नहीं दिया। भाजपा ने यह नहीं कहा कि हमसे गलती हो गई है, इस गलती को ठीक कर देंगे। भाजपा के मेयर ने एक बार फिर आम आदमी पार्टी के 15 पार्षदों को निलंबित कर दिया।आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता ने भाजपा से पूछा कि हमारे पार्षद क्या सवाल उठा रहे थे और ऐसी क्या मांग कर रहे थे कि भाजपा वालों के इतनी खराब लग गई कि उन्हें सदन में बैठने ही नहीं दिया। आम आदमी पार्टी के पार्षद जानना चाहते थे कि पिछले साल जब डेंगू की दवा खरीदी गई है तो उसमें इतना भ्रष्टाचार क्यों हुआ है। दिल्ली में दवा 3300 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से खरीदी गई है। वही दवा भोपाल में 2400 रुपए प्रति लीटर में खरीदी गई है। यह 900 रुपए प्रति लीटर का जो घोटाला किया गया है, इसका पैसा कहां और किसकी जेब में गया। इसके अलावा दिल्ली की जनता की तरफ से पूछ रहे थे कि इस साल डेंगू की दवा का टेंडर क्यों नहीं हुआ।? दिल्ली में अप्रैल से लेकर नवंबर तक 8 महीनों में दवा क्यों नहीं खरीदी गई है। दिल्ली के लोग डेंगू और मलेरिया से परेशान है, पांच हजार से ज्यादा मामले आ चुके हैं। डेंगू की वजह से मौतें हो चुकी हैं।


Share