कोरिया जिले का स्वास्थ्य विभाग, रोज नए कारनामों से बना रहता है सुर्खियों में।

21
Share

बैकुंठपुर। कोरिया जिले का स्वास्थ्य विभाग जिले के नए जिला स्वास्थ्य एवम चिकित्साधिकारी की पदस्थापना के बाद से ही सुर्खियों में बना रहता है और इनके निर्णय व इनके काम करने के अंदाज को लेकर कोई न कोई विषय प्रतिदिन शिकायत के तौर पर जरूर सुनाई दे जाता है। ताजा मामला बैकुंठपुर स्वास्थ्य विभाग के एक ऐसे लिपिक को कई ऐसी शाखाएं अकेले प्रदान करने को लेकर उठ रहा है जिसमें सहायक ग्रेड 3 के पद पर पदस्थ एक लिपिक को वाहन शाखा, दवाई भण्डार गृह सहित कई अन्य मलाईदार शाखा अकेले ही उनके जिम्मे प्रदान कर दी गईं हैं और वह अपने कारनामों को लेकर प्रतिदिन शिकायतों का कारण भी बन रहें हैं। अनाप शनाप डीजल पर्चियां काटकर वह एक तरफ शासन को लाखों रुपये का चुना लगा रहें हैं वहीं स्वास्थ्य सुविधाओं पर खर्च की जाने वाली राशि के बन्दरबांट को बढ़ावा दे रहें हैं। विभाग का दवा भण्डार शाखा भी इन्ही सहायक ग्रेड 3 लिपिक के जिम्मे है जबकि इन्हें फार्मासिस्ट का न तो अनुभव है और नही इनके पास डिग्री ही है। विभाग के आला अधिकारियों का इनके ऊपर इस तरह की कृपा बरस रही है कि विभाग में पदस्थ फार्मासिस्ट को हटाकर इन्हें दवाई भण्डार शाखा का प्रभार सौंपा गया है वहीं दवाइयों की खरीदी भी इन्ही के जिम्मे सौंपा गया है। मूल रूप से सहायक ग्रेड 3 के पद पर कार्यरत उक्त लिपिक को कई शाखाएं सौंपने के पीछे की वजह क्या है यह तो सीएमएचओ साहब ही बता सकेंगे, लेकिन लिपिक को उनका खास संरक्षण प्राप्त है इससे इंकार नहीं किया जा सकता।
डीजल पर्ची को लेकर किया जा रहा बड़ा घोटाला- स्वास्थ्य विभाग में वाहन शाखा सम्हाल रहे उक्त सहायक ग्रेड 3 लिपिक द्वारा डीजल की अनाप शनाप पर्ची काटी जा रही है और शासन को लगातार लाखों का चूना लगाया जा रहा है जिसकी शिकायत होने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं कि जा रही है जबकि डीजल पर्ची काटकर न तो गाçड़यों का लाग बुक भरा जा रहा है और न अन्य कोई प्रक्रिया नियमानुसार अपनाई जा रही है। जांच किये जाने पर केवल डीजल की अनाप शनाप पर्चियों को लेकर ही बड़ा खुलासा होने की सूचना मिल रही है।
दवा खरीदी शाखा का भी प्रभार- उक्त सहायक ग्रेड 3 लिपिक के पास दवा खरीदी शाखा का भी प्रभार है,जबकि इस शाखा का प्रभार फार्मासिस्ट के पास होना चाहिए जबकि फार्मासिस्ट को हटाकर इन्हें इस शाखा में रखा गया है जबकि बिना अनुभव व डिग्री इन्हें इस शाखा का प्रभार दिया जाना अनुचित है।
जन औषधि केंद्र शाखा का भी अतिरिक्त प्रभार- जन औषधि शाखा का भी अतिरिक्त प्रभार इन्ही के पास है और उस शाखा में भी जमकर गड़बडी हुई है जिसकी जांच की जाने की जरूरत है।
जिला पंचायत सीईओ लगा चुके हैं फटकार- कोरोना काल के दौरान जिला पंचायत सीईओ दवा खरीदी शाखा में अनियमितता को लेकर फटकार लगा चुके हैं वहीं वह जांच भी किये जाने की बात कह चुके हैं, लेकिन जांच में अब तक क्या कार्यवाही हुई उसका पता नहीं चल सका है।
दवा खरीदी की भी होनी चाहिए जांच- जिला स्वास्थ्य विभाग बैकुंठपुर कोरिया में कोरोना काल के दौरान की गई दवा खरीदी व अन्य सामग्रियों की खरीदी की जांच की जाए अब ऐसी आवाजें उठने लगी हैं,विभाग के ही कई कर्मचारी संगठनों ने भी कोरोना काल के दौरान की गई खरीदी को दोषपूर्ण मानते हुए उसकी जांच की मांग की थी वहीं अब अन्य लोग भी जांच की मांग को लेकर सामने आ रहें हैं।
जांच से बहोत बड़े घोटाले का हो सकता है खुलासा- बताया जा रहा है कि जिला स्वास्थ्य विभाग की यदि जांच की जाए तो बहोत बड़े स्तर का घोटाला सामने आ सकता है,जिसमें दवा खरीदी सहित डीजल पर्ची से डीजल के नाम पर अर्थिक घोटाला भी सामने आएगा।लोगों ने अब जांच की मांग तेज करने का मन बना भी लिया है।


Share