रायपुर @ आद्यशक्ति देगी कोरोना के साये में दर्शन

33
Share


रायपुर,07 अक्टूबर 2021(ए)। कोरोना काल में हर त्योहार पर असर पड़ा है। पिछले साल नवरात्रि पर्व नहीं मनाया गया था। नियमानुसार ही मूर्ति की स्थापना कर लोगों को प्रसन्न होना था। इस साल कोरोना की घटती रफ्तार से नवरात्रि पर्व का उत्साह तो नजर आ रहा है, लेकिन शासन के कड़े नियम और कोरोना के साये में आदिशक्ति बैठेगी।
इस नवरात्र में रतनपुर स्थित मां महामाया देवी के दर्शन हो सकेंगे। मंदिर कमेटी के फैसले में यह मंशा जाहिर किया है, हालांकि इसके लिए कड़ाई से कोविड नियमों का पालन करना होगा। खासकर मंदिर दर्शन करने वाले लोगों को वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य होगा। वहीं राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ स्थित मां बम्लेश्वरी के दर्शन के लिए दूसरे शहर के लोग पैदल यात्रा नहीं कर सकेंगे। नवरात्र को लेकर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (जीपीएम) और कोरिया जिले के लिए भी गाइडलाइन जारी की गई है। जिसके तहत इन दोनों ही जिलों में इस बार माता का भंडारा आयोजित नहीं किया जाएगा, और यह लगभग प्रत्येक जिले में लागू है।
मां महामाया मंदिर दर्शन के लिए मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष आशीष सिंह ठाकुर और मैनेजिंग ट्रस्टी सुनील सोनथलिया ने आदेश जारी किया है। इस आदेश में कहा गया है कि दर्शन के लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट दिखाना अनिवार्य होगा। यदि किसी भक्त के पास सर्टिफिकेट नहीं है तो वे कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट भी दिखा सकते हैं।
सीमित समय के लिए ही किया जा सकता है दर्शन
आदेश के अनुसार श्रद्धालुओं इस बार माता के दर्शन तो कर सकेंगे, लेकिन वह सीमित समय के लिए होगा। श्रद्धालु मंदिर में माला, प्रसाद, फूल आदि निर्धारित स्थान में जमा कर काउंटर से प्रसाद प्राप्त कर सकेंगे। नवरात्र में सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक मां महामाया के दर्शन होंगे। सप्तमी के दिन भी रात 10 बजे तक ही दर्शन हो सकेंगे। यहां भी मंदिर समिति ने भक्तों से पदयात्रा नहीं करने की अपील की है। वहीं भंडारा, जगराता जैसे कार्यक्रम भी मंदिर में आयोजित नहीं किए जाएंगे।


Share