कोरोना पर खुलासा, ओमिक्रॉन वेरिएंट के अधिक संक्रामक होने की वजह आई सामने

Share

हेल्थ डेस्क, नई दिल्ली 20 जुलाई 2022कोविड 19 के चार वेरिएंट की तुलना करते हुए एक अध्ययन किया गया, जिसमें देखा गया कि कैसे ओमिक्रॉन वेरिएंट कोशिकाओं में प्रवेश करने में सक्षम है। अध्ययन में ओमिक्रॉन वेरिएंट के मौजूदा कोरोना टीकों व पूर्व संक्रमण के सामने बेअसर होने से बचने के कारण का पता चला है। ओमिक्रॉन वेरिएंट इस सभी के बावजूद तेजी से फैलता है यानी अन्य तीन वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक है। ‘प्रोसिडिंग ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज’ (पीएनएएस) जर्नल में 19 जुलाई को प्रकाशित स्टडी रिपोर्ट में पता चला कि ओमिक्रॉन म्यूटेशन सार्स सीओवी 2 जैसे कणों की संक्रामकता को बढ़ाते हैं और एंटीबॉडी न्यूट्रलाइजेशन को कम करते हैं।

शोधकर्ताओं ने वायरस जैसे कणों (वीएलपी) का उपयोग करके वायरस की जांच की, जो सार्स सीओवी 2 प्रोटीन की संरचनात्मक विशेषताओं की नकल करते हैं। जेनिफर डौडना, मैलानी ओट और उनके सहयोगियों ने जिन चार वेरिएंट के बीच तुलना की, उसमें बी.1, बी.1.1, डेल्टा और ओमिक्रॉन वेरिएंट शामिल है। बी.1, बी.1.1, डेल्टा और ओमिक्राॅन के वीएलपी का मूल्यांकन कोविड-19 से बचे 38 लोगों के एंटीसेरा नमूनों के खिलाफ किया था। जिसमें टीकाकरण और बिना टीकाकरण वाले दोनों तरह के लोग शामिल थे।

मूल बी.1 स्ट्रेन के विपरीत, दो टीके लग चुके एक शख्स में ओमिक्रॉन को बेअसर करने में 15 गुना कम प्रभावी क्षमता मिली। फिर भी 16 से 21 दिनों के भीतर तीसरा एमआरएनए टीका प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों में ओमिक्रॉन वेरिएंट के खिलाफ इन विट्रो तटस्थ गतिविधि में काफी वृद्धि हुई। वर्तमान में उपलब्ध चार मोनोक्लोनल एंटीबॉडी थेरेपी-कैसिरिविमैब, इमदेविमैब, सोट्रोविमैब और बेबेटलोविमैब की इन विट्रो न्यूट्रलाइजिंग पोटेंसी का लेखकों ने मूल्यांकन किया। उन्होंने पाया कि ओमिक्रॉन के खिलाफ केवल बेबेटलोविमैब ही काफी प्रभावी था।

निष्कर्षों के मुताबिक, लेखकों का अनुमान है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट विशेष रूप से आंशिक तौर पर संक्रामक हो सकता है क्योंकि इसे बेअसर करना कठिन है। शोधकर्ताओं ने एक मौजूदा मोनोक्लोनल एंटीबॉडी भी पाया, जो इन विट्रो में भिन्नता को बेअसर कर सकता है।
———————
अस्वीकरण:  घटती-घटना लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।


Share

Check Also

कांग्रेस और राजनैतिक मनभेद

Share घटती घटना/अशोक ठाकुरविवाद,अर्न्तकलह,भीतरघात, आपसी आरोप-प्रत्यारोप व परिवारवाद की राजनीति का चोली-दामन का साथ नेहरु …

Leave a Reply

error: Content is protected !!