अम्बिकापुर @इस बार छठ पूजा में कोरोना टीका लगवाने वालों को ही मिलेगी छठ घाट जाने की अनुमति

29
Share

दीपावली एवं छठ पूजा मनाने पहली बार शांति समिति की बैठक का हुआ आयोजन

अम्बिकापुर 28 अक्टूबर 2021 (घटती-घटना)। कोरोना संक्रमण से बचाव को दृष्टिगत रखते हुए इस बार छठ पूजा में जिन्होंने कोरोना टीका लगवाया है उन्हीं को छठ घाट जाने की अनुमति होगी ताकि कोरोना संक्रमण का प्रभाव घातक न हो। छठ घाट में पूजा में शामिल होने जाने वालां को कोरोना टीकारण संबंधी मोबाइल मैसेज या टीकाकरण प्रमाण दिखाना होगा। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु बुजुर्गों एवं बच्चों को छठ घाट साथ में नहीं ले जाने हर संभव प्रयास घर के लोगों को ही करना होगा। गुरुवार को कलेक्टर संजीव कुमार झा की अध्यक्षता में दीपावली एवं छठ पूजा मनाने पहली बार आयोजित शांति समिति की बैठक में यह यह निर्णय लिया गया। इसके साथ ही बैठक में दीपावली एवं छठ पूजा शांति पूर्वक एवं कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए मनाने का निर्णय समिति के सदस्यों द्वारा एकमत से लिया गया।
कलेक्टर संजीव कुमार झा ने कहा कि वर्तमान में जिले में कोविड का संक्रमण थमा है लेकिन समाप्त नहीं हुआ है। इसे देखते हुए कोरोना गाइडलाइन का पालन करना जरूरी है , इसके लिए खुद को सावधानी बरतना होगा। उन्होंने छठ घाट में बिजली, पार्किंग, आपदा राहत आदि की टीम की पुख्ता व्यवस्था के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने सभी छठ घाटों में बिजली कर्मियों की तैनाती के साथ ही एक कंट्रोल रूम भी स्थापित कर कर्मचारियों की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए।

भीड़ नियंत्रण के लिए वालंटियर्स होंगे तैनात

छठ घाटों में पूजा के बाद भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस के जवानों के साथ ही प्रत्येक घाट में 40-50 एनएसएस एवं एनसीसी के कैडेट की भी ड्यूटी लगाई जाएगी। घाट में क्रेन, फायर ब्रिगेड, गोताखोर, तैराक, एम्बुलेंस एवं मेडिकल टीम भी तैनात रहेगी।

सफाई के लिए तैनात रहेगी विशेष टीम

छठ घाटों में साफ-सफाई के लिए नगर निगम एवं छठ घाट समिति के द्वारा विशेष सफाई टीम रखी जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों के घाट की सफाई व्यवस्था के लिए ग्राम पंचायतों को जिम्मेदारी दी जाएगी। शंकर घाट एवं घुनघुट्टा नदी घाट में भीड़ को कम करने के लिए नए छठ व्रतियों को नए घाट में शामिल होने प्रोत्साहित किया जाएगा।

निर्धारित स्थल पर ही होगी पटाखों की बिक्री

दीपावली में पटाखा जलाने के लिए शहर के पीजी कालेज ग्राउड में दुकान आवंटित की जाएगी। पटाखों की बिक्री इन्हीं निर्धारित दुकानों से ही करने की होगी अनुमति। धनतेरस के दिन सड़क मे जाम की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए वाहन पार्किंग निर्धारित की जाएगी तथा दुकानों से बाहर सामान निकालकर बिक्री करने की अनुमति नहीं होगी।

पटाखे फोड़ने की अवधि निर्धारित

नेशनल ग्रीन ट्रिव्यूनल एवं पिंसिपल बेंच नई दिल्ली द्वारा पटाखों के उपयोग के संबंध में आदेश पारित किया गया है। दीपावली, छठ, गुरू पर्व, क्रिसमस एवं नया वर्ष के अवसर पर पटाखा फोड़ने की अवधि दो घंटे निर्धारित की गई है। अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी ने बताया है कि जिले में केवल हरित पटाखों का विक्रय एवं उपयोग सुनिश्चत किया जाना है। उन्होंने यह भी बताया है कि दीपावली के अवसर पर रात्रि 8 बजे से रात्रि 10 बजे तक, छठ पूजा के अवसर पर प्रातः 6 बजे से प्रातः 8 बजे तक, गुरू पर्व के अवसर पर रात्रि 8 बजे से 10 बजे तक, क्रिसमस एवं नया वर्ष के अवसर पर रात्रि 11ः55 बजे रात्रि 12ः30 बजे तक पटाखे फोड़े जा सकेंगे।
पुलिस अधीक्षक अमित तुकाराम कांबले ने कहा कि समिति के द्वारा दिए गए सुझावों पर अमल की जाएगी। स्थल भ्रमण कर व्यवस्था को दुरूस्त करने का प्रयास किया जाएगा। महापौर डॉ अजय तिर्की ने कहा कि कोविड संक्रमण के देखते हुए बुजुर्ग एवं बच्चों को छठ घाट स्थल नहीं ले जाने पर जोर देना होगा। अगले 10 दिन में शहर में कोरोना की स्थिति के देखकर प्रशासनिक निर्णय लिया जाए।
बैठक में नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष प्रबोध मिंज, पार्षद आलोक दुबे, अमर विजय सिंह तोमर, जिला पंचायत सीईओ विनय कुमार लंगेह, अपर कलेक्टर एएल ध्रुव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला, एसडीएम प्रदीप साहू, नगर निगम आयुक्त प्रभाकर पाण्डेय, रामचन्द्र स्वर्णकार, कर्ताराम, कैलाश मिश्रा, अंजुमन कमेटी के सचिव इरफान सिद्धिकी सहित छठ घाट समिति के प्रतिनिधि, समिति के अन्य सदस्य सहित एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


Share