अम्बिकापुर @सोहगा के किसानों को अब खेती के लिए अब नहीं होगी पानी की समस्या

33
Share


स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के प्रयासों से लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टम की मिली स्वीकृति

अम्बिकापुर 10 अक्टूबर 2021 (घटती-घटना)। सरगुजा जिले के ग्राम पंचायत सोहगा के किसानों को अब खेती किसानी के लिए पानी की समस्या से जूझना नहीं पड़ेगा। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के प्रयासों से लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टम की स्वीकृति मिल गई है। एक सालों के भीतर इस योजना के तहत 500 हेक्टेयर इससे भी अधिक जमीन में सुनिश्चित सिंचाई की व्यवस्था की जाएगी।
सरगुजा जिले के ग्राम सोहगा के किसान सालों से पानी की समस्या से जूझ रहे है। खेती किसानी के लिए ग्राम सोहगा के किसान बारिश के पानी पर ही आश्रित रहते है। ऊंचाई क्षेत्र होने की वजह से किसानों तक पानी पहुंचाने की योजना अब तक नहीं बनाई गई थी। ऐसे में किसानों को अल्प वर्षा होने की वजह से खेती किसानी में काफी नुकसान उठाना पड़ता था। जबकि दरिमा क्षेत्र में रहने के बावजूद किसान बून्द- बून्द पानी के तरसते थे। लेकिन स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के प्रयास से किसानों को पानी के लिए अब तरसना नहीं पड़ेगा। दरअसल पूर्ण जिला पंचायत उपाध्यक्ष स्वर्गीय यूएस सिंहदेव की जयंती के अवसर पर सोहगा के किसानों को एक बड़ी सौगात मिली है। स्वर्गीय यूएस सिंहदेव द्वारा ग्राम सोहगा के किसानों तक पानी पहुंचाने के लिए लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टम का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजा गया थी। यह प्रस्ताव स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के प्रयासों से स्वीकृत हो गया। ग्राम पंचायत सोहगा तक लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टम के माध्यम से पानी पहुंचाने के लिए 3 करोड रुपए की स्वीकृति मिली है।


कैनाल के जरिए पानी पहुंचेगाखेतों में

जिला पंचायत सदस्य राकेश गुप्ता ने बताया कि ग्राम पंचायत सोहगा के लगभग 500 किसानों को एक वर्ष के भीतर लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टम का लगभग मिलने लगेगा। गौरतलब है को लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टर के जरिये निचले क्षेत्र के पानी को सोलर सिस्टम या विद्युत के माध्यम से पम्प लगाकर ऊपरी क्षेत्र तक पहुंचाया जाएगा। इसके पश्चात नाली या कैनाल के जरिये किसानों के खेतों तक पानी आसानी से पहुंच सकेगा। ऐसे में खेती किसानी के लिए किसानों को बारिश के पानी पर आश्रित नहीं रहना पड़ेगा। वही राकेश गुप्ता ने बताया कि लिफ्ट इर्रिगेशन सिस्टम के माध्यम से ग्राम पंचायत सोहगा में 500 हेक्टेयर या उससे भी अधिक जमीन में सुनिश्चित सिंचाई की व्यवस्था की जाएगी।


Share