मां के मौत के बाद बेटियों को चाइल्ड लाइन को किया गया सुपुर्द

41
Share

अम्बिकापुर 23 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। महिला अंबिकापुर में बदहाली की जिंदगी जीते हुए भिक्षा टन कर अपने दो मासूम बेटी 4 वर्षीय शांति एवं 6 वर्षीय कांति के साथ फुटपाथ पर रहती थी। पिछले कुछ दिनों से अपनी बेटियों के साथ वह पॉलिटेक्निक कॉलेज लाइवलीहुड बालक छात्रावास के परिसर में रह रही थी। पिछले कुछ दिनों से उसके तबीयत खराब चल रहा था। महिला कहां की रहने वाली है और उसके परिजन कहां रहते हैं इसकी जानकारी ना तो इसके दोनों बेटियों के पास है और ना ही साथ में भिक्षा टन कर रही महिलाओं के पास है। महिला की ज्यादा तबीयत खराब हो जाने के कारण 22 सितंबर को पॉलिटेक्निक कॉलेज लाइवलीहुड बालक छात्रावास के परिसर मैं उसकी मौत हो गई।
महिला शहर में घूम घूम कर भिक्षा टन कर अपनी दो मासूम बेटियों का भरण पोषण करती थी। महिला की मौत हो जाने के बाद दोनों बच्चियां अनाथ हो चुकी हैं। दोनों बच्चियां मां के शव के पास बिलख रही थी। जब इसकी जानकारी गांधीनगर पुलिस को हुई तो मौके पर पहुंचकर मामले की जांच की और शव को परिजन के इंतजार में मेडिकल कॉलेज अस्पताल के चीरघर में रखवा दिया है। हालांकि पुलिस के पास इस के परिजन के संबंध में कोई जानकारी नहीं है।
दोनों मासूम बच्चियों के सिर से मां का भी साय उठ चुका है। इन दोनों मासूम बच्चियों को मां के सही नाम का भी पता नहीं है और उसके परिजन कहां रहते हैं इसकी भी जानकारी उन्हें नहीं है। फिलहाल पुलिस ने इन दोनों बच्चियों को चाइल्ड लाइन को सुपुर्द कर दिया गया है।


Share