अधिवक्ता संघ द्वारा अनुविभागीय अधिकारी की शिकायत कलेक्टर से

294
Share

अम्बिकापुर 22 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। जिला अधिवक्ता संघ अम्बिकापुर ने अनुविभागीय अधिकारी द्वारा किए गए कदाचरण की शिकायत कलेक्टर सें की है। अधिवक्ता संघ ज्ञापन सौंप कर कलेक्टर को अवगत कराया है कि 20 सितंबर को 3 से 4 बजे के मध्य अनुविभागीय अधिकारी न्यायालय में प्रकरण की सुनवाई कर रहे थे, संघ के सीनीयर अधिवक्ता सुभाश अग्रवाल अपना तर्क सुना रहे थे, इसी दौरान किसी का फोन पीठासीन अधिकारी अनुविभागीय अधिकारी के पास आया और वे प्रकरण की सुनवाई छोड़ कर जाते हुए यह कहा कि आप लोग आधा घण्टा बैठें आकर सुनवाई करूंगा। जबकी सीनियर अधिवक्ता का तर्क अभी आधा हुआ था। ऐसी स्थिति में संघ के सचिव वहां उपस्थित थे, जिन्होंने अनुविगीय अधिकारी से निवेदन किया कि यहां पर कोई बैठक व्यवस्था नहीं है और आप कहते है बैठे रहिए हम आकर प्रकरण की सुनवाई करेंगें।
इस पर अनुविभागीय अधिकारी भड़क उठे और तुम लोगों की यही बातें है, कई लोग बोल चुके है, मेरे पास कोई दूसरा काम नहीं है क्या, तुम लोग मत आया करो इस न्यायालय में इस प्रकार की अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए अनुविभागीय अधिकारी उठ कर चले गए।
अधिवक्ता संघ का आरोप है कि राजस्व न्यायालय में पीठासीन अधिकारी कभी भी समय पर नहीं बैठते हैं, कभी भी उठ कर चले जाते हैं, और अधिवक्तागण प्रतीक्षा करते हैं या फिर मजबूरन तारीख लेना पड़ता है, कभी-कभी तो शाम 7 बजे तक प्रकरण की सुनवाई की जाती हैं। अधिवक्ता संघ ने कलेक्टर से कहा कि एक अधिवक्ता को सीविल न्यायालयों में परिवार न्यायालय, उपभोक्ता कोर्ट, आयुक्त कोर्ट में समय पर उपस्थित होना पड़ता है, तथा राजस्व न्यायालय का समय निर्धारित नहीं एवं पीठासीन अधिकारी के समय पर न्यायालय में नही बैठने के कारण काफी परेशानिया होती है इसके बाद भी अतिरिक्त समय अर्थात शाम 5 बजे के बाद भी तहसील न्यायालय एवं अनुविभागीय अधिकारी के न्यायालय में उपस्थित रह कर न्यायालय का सहयोग करते हैं ऐसी स्थिति में पीठासीन अधिकारी की अभद्रता अशोभनीय है।अधिवक्ता संघ ने कलेक्टर से से राजस्व न्यायालय की अव्यवस्था में सुधार किए जाने की मांग की है राजस्व न्यायालय के पीठासीन अधिकारियों के बैठक की तिथी निर्धारित हो तथा जब न्यायालय में बैठे और प्रकरण का निराकरण में हो समय 5 बजे अथवा अधिकतम 5.30 बजे तक ही प्रकरण लिया जाएं।


Share