पैसों के लालच में आकर नाती ने कर दी नाना की हत्या,रामनगर पुलिस ने चंद घंटों के भीतर सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी

64
Share

मनेन्द्रगढ़ 18 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। जिला अनुपपुर के अंतर्गत राजनगर कालरी-रामनगर थाना अंतर्गत पुलिस ने सिक्युरिटी गार्ड की हत्या के मामले को सुलझा लिया है।हत्यारा कोई और नही बल्कि मृतक का नाती ही निकला जिसने पैसों के लालच में अपने नाना की हत्या कर दी थी।पुलिस ने हत्यारे नाती को गिरफ्तार कर लिया है।उपरोक्त संबंध में सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार थाना रामनगर क्षेत्रांतर्गत 16 सितंबर की दरमियानी रात एसईसीएल के रिजनल वर्कशॉप शांतिनगर के पास एसईसीएल सिक्योरिटी गार्ड रमेश केवट उम्र 58 वर्ष का शव चार दिवारी के अन्दर संदिग्ध अवस्था में मिला। घटना की प्रकृति हत्या की थी। इस गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल द्वारा घटनास्थल का निरीक्षण किया गया और पूछताछ प्रारंभ की गई।अनुसंधान की वैज्ञानिक पद्धति का सहारा लेते हुए पुलिस के द्वारा अनुसंधान प्रारंभ किया गया। घटनास्थल के निरीक्षण से यह स्पष्ट हुआ कि घटना का उद्देश्य चोरी नहीं मृतक की हत्या है। ऐसे में पुलिस के द्वारा इस बिन्दु पर अनुसंधान प्रारंभ किया गया कि मृतक की हत्या से किस व्यक्ति को लाभ हो सकता है। इस संबंध में मृतक के परिजनों से पूछताछ की गई। पूछताछ के क्रम में मृतक का नाती पुष्पेन्द्र केवट जो घटना दिनांक को मृतक के साथ सोया था।उससे भी सघन पूछताछ की गई। बयानों में विरोधाभास को देखते हुए पुलिस के द्वारा गंभीरता से एवं विभिन्न कçड़यों को जोड़ते हुए पूछताछ प्रारंभ की गई। मृतक के नाती पुष्पेन्द्र केवट के साथ तथ्यों को घटनास्थल पर जा कर वेरीफाई किया गया तो उसमें विरोधाभास प्रदर्शित हुआ। पुष्पेन्द्र केवट से बिन्दुवार पूछताछ करने के उपरांत उसके द्वारा अपना जुर्म स्वीकार कर लिया गया।आरोपी ने कबूला जुर्म आरोपी के द्वारा घटनास्थल जा कर सम्पूर्ण घटनाक्रम बताया एवं घटना में प्रयुक्त किये गये हथियारों को भी जप्त कराया। आरोपी के द्वारा यह बताया गया कि मृतक उसका नाना था।जो उसके साथ गाली गलौज करता था, एवं उसके साथ मारपीट करता था और उसको पैसे भी नहीं देता था। आरोपी को इस बात की जानकारी थी, कि वह घर का एकमात्र पुरुष सदस्य है जो अपने नाना की मृत्यु के बाद मिलने वाले सारे पैसों का एकमात्र मालिक होगा। इस कारण घटना दिनांक को उसके द्वारा रात्रि में चोरों के आने की झूठी बात कहते हुए मृतक रमेश केवट को वर्कशॉप की तरफ ले जाते हुए पीछे से राड़ एवं डण्डे से वार किया गया, जिससे उसकी मृत्यु हो गई और बाद में पूरी घटना को छुपाते हुए वह घर चला गया।इस प्रकार रीजनल वर्कशॉप में सुरक्षाकर्मी की हत्या होना बहुत गंभीर व सनसनीखेज घटना थीं।जिस पर पुलिस के द्वारा तत्परतापूर्वक कार्यवाही करते हुए आरोपी को हिरासत में लिया गया। पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल के निर्देशन में अति.पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन, एसडीओपी कोतमा शिवेन्द्र सिंह, थाना प्रभारी रामनगर आर. बी. प्रजापति, प्रआर. सनत द्विवेदी, आर. अमित पटेल, सायबर सेल के आर. राजेन्द्र अहिरवार व पंकज मिश्रा की इस अन्धी हत्या को सुलझाने में प्रमुख भूमिका रही।


Share