Breaking News

शुरू हो रहा है श्रावण मास, जानें सावन सोमवार की तिथियां

Share

धर्म 12 जुलाई 2022 भोलेनाथ को प्रिय सावन का महीना 14 जुलाई 2022 से 12 अगस्त 2022 तक रहेगा. इस पूरे माह भक्त शिव जी की भक्ति में लीन रहते हैं. यहां जानिए वर्ष 2022 के सावन सोमवार व्रत की तिथियां, पूजा विधि, कथा और महत्व के बारे में जाने…….

जानिए भगवान शंकर की स्तुति और आरती

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम् ।

सदा बसन्तं हृदयारबिन्दे भबं भवानीसहितं नमामि ।।

जय शिव ओंकारा ॐ जय शिव ओंकारा ।

ब्रह्मा विष्णु सदा शिव अर्द्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव…॥

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।

हंसानन गरुड़ासन वृषवाहन साजे ॥ ॐ जय शिव…॥

दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहे।

त्रिगुण रूपनिरखता त्रिभुवन जन मोहे ॥ ॐ जय शिव…॥

अक्षमाला बनमाला रुण्डमाला धारी ।

चंदन मृगमद सोहै भाले शशिधारी ॥ ॐ जय शिव…॥

श्वेताम्बर पीताम्बर बाघम्बर अंगे ।

सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥ ॐ जय शिव…॥

कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूल धर्ता ।

जगकर्ता जगभर्ता जगसंहारकर्ता ॥ ॐ जय शिव…॥

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।

प्रणवाक्षर मध्ये ये तीनों एका ॥ ॐ जय शिव…॥

काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रह्मचारी ।

नित उठि भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ ॐ जय शिव…॥

त्रिगुण शिवजीकी आरती जो कोई नर गावे ।

कहत शिवानन्द स्वामी मनवांछित फल पावे ॥ ॐ जय शिव…॥

जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा|

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥

दांपत्य जीवन की समस्याओं के लिए करें ये उपाय

दांपत्य जीवन में अगर कोई समस्या उत्पन्न हो रही है तो श्रावण मास बहुत लाभकारी है. सावन मास में पति-पत्नी को पूरे सावन के महीने में पवित्र शिवलिंग का जलाभिषेक करना चाहिए. अगर ऐसा संभव नहीं हो पाता है तो केवल पति भी दोनों की तरफ से जल अर्पित कर सकता है.

भगवान शिव को अर्पित करें ये वस्तु

श्रावण मास में भगवान शिव की प्रेम भाव से अगर पूजा जाए तो वो आपकी मनोकामना जरूर पूरी करते हैं. सावन के महीने में भगवान शिव को धतूरा, बेल पत्र, भांग के पत्ते या भांग, दूध, काले तिल, गुड़ आदि चढ़ाना शुभ माना जाता है.

सावन का पहला सोमवार

18 जुलाई को सावन का पहला सोमवार रहेगा.इस दिन मौना पंचमी का पर्व मनाया जाएगा. ज्योतिषियों के अनुसार, इस सोमवार को शोभन और रवियोग रहेंगे, जिससे इस इस दिन का महत्व और भी बढ़ जाएगा.

क्यों है इस महीने का नाम श्रावण और क्या है इसका महत्व?

इस महीने का श्रावण नाम श्रवण नक्षत्र से पड़ा है क्योंकि इस महीने की पूर्णिमा पर चंद्रमा श्रवण नक्षत्र में होता है. ये 27 में से 22वां नक्षत्र है. वैदिक ज्योतिष के अनुसार श्रवण नक्षत्र का स्वामी बृहस्पति ग्रह है. श्रावण का अर्थ है सुनना. यानी इस महीने में भगवान के स्वरूप का श्रवण करना चाहिए ताकि मन के विकार दूर हो सकें और हम ईश्वर के निराकार स्वरूप को समझ सकें। इसलिए श्रावण मास में धार्मिक कथाओं का आयोजन विशेष रूप से किया जाता है.

सावन सोमवार 2022 की तिथियां

सावन का पहला दिन- 14 जुलाई 2022

सावन का पहला सोमवार- 18 जुलाई

सावन का दूसरा सोमवार- 25 जुलाई

सावन का तीसरा सोमवार- 01 अगस्त

सावन का चौथा सोमवार- 08 अगस्त

सावन का आखिरी दिन- 12 अगस्त

सावन महीने का ज्योतिष महत्व?

सावन का महीना पूजा-पाठ और ध्यान करने के लिए विशेष माना गया है. ज्योतिष के नजरिए भी सावन महीने का विशेष महत्व होता है. श्रावण मास के प्रारंभ में सूर्य सिंह राशि में प्रवेश करता है. सूर्य का यह गोचर सभी 12 राशियों को प्रभावित करता है.


Share

Check Also

दिल्ली के ये शिव मंदिर हैं बहुत प्रसिद्ध, इस सावन के महीने में करें दर्शन

Share लाइफस्टाइल डेस्क, नई दिल्ली 20 जुलाई 2022।  सावन का पावन महीना जारी है। यह …

Leave a Reply

error: Content is protected !!