लखनपुर@अमेंरा धान उपार्जन केंद्र में दर्जनों किसानों का नहीं खरीदा गया धान,किसान हो रहे परेशान

41
Share

छोटे किसान टोकन कटाने लगा रहे चक्कर,उपार्जन केंद्र में अव्यवस्था से भीगा धान

मनोजकुमार-
लखनपुर 11 जनवरी 2022 (घटती-घटना)। लखनपुर विकासखंड के ग्राम लहपटरा स्थित अमेरा उपार्जन केंद्र में अव्यवस्था का आलम खुले आसमान के नीचे रखें कई मि्ंटल धान बेमौसम बारिश से भीगा चुका है। 11 जनवरी दिन मंगलवार को अमेंरा धान उपार्जन केंद्र में धान खरीदी प्रभावित रहा जहां दर्जनों की संख्या में अमेरा उपार्जन केंद्र धान बेचने पहुंचे किसानों का धान उपार्जन केंद्र प्रभारी संजय रजवाड़े के द्वारा बारिश का बहाना बनाकर धान नहीं खरीदा गया। जिससे दर्जनों किसानों को हजारों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा । साथ ही ग्राम सलका व अन्य ग्रामों के छोटे किसानों को टोकन कटाने के लिए उपार्जन केंद्र का चक्कर लगाना पड़ रहा है। साथ ही धान बेचने आए किसानों ने अमेंरा उपार्जन केंद्र प्रभारी संजय राजवाड़े पर आरोप लगाते हुए कहा कि अधिक तौल में धान खरीदा जा रहा है किसानों के द्वारा बताया गया कि सुतली बोरा में 41 किलो 100 ग्राम प्लास्टिक बोरा में 40 किलो 600 ग्राम तौल कर धान खरीदा जा रहा है। जबकि शासन के द्वारा तौल निर्धारित किया गया है। प्लास्टिक के बोरे में 40 किलो 300 व सुतली बोरे में 40 किलो 700 ग्राम तौल कर धान खरीदी करना है परंतु शासन द्वारा बनाए गए नियमों का पालन उपार्जन केंद्र में होता नहीं दिख रहा है। जिससे क्षेत्र के किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। और अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि समय-समय पर प्रशासनिक अमले सहित जनप्रतिनिधियों के द्वारा धान उपार्जन केंद्रों का निरीक्षण करते हुए प्रभारियों को निर्देशित किया जाता है धान बेचने आने वाले किसानों को किसी तरह का परेशानियों का सामना ना करना पड़े। और किसानों को बेहतर सुविधा मुहैया कराई जाए परंतु अमेरा धान उपार्जन केंद्र में ठीक इसके विपरीत हो रहा है जहां किसानों को टोकन कटाने धान बेचने सहित अनेक प्रकार की परेशानियों सामना करना पड़ रहा है। तो वही लखनपुर ,चांदो, कुन्नी, पुहपुटरा उपार्जन केंद्रों में किसानों से धान की खरीदी की जा रही है ।अब देखने वाली बात होगी कि प्रशासन इसे लेकर किस प्रकार की कार्यवाही करती है।

वही इस संबंध में अमेरा उपार्जन केंद्र प्रभारी संजय कुमार रजवाड़े से चर्चा करने पर उनके द्वारा कहा गया कि बारिश का मौसम होने की वजह से किसानों से धान नहीं खरीदा गया और किसानों के द्वारा अधिक तौल का आरोप लगाया गया है यह सरासर गलत है। शासन द्वारा निर्धारित तौल के हिसाब से धान खरीदी की जा रही है।
संजय कुमार रजवाड़े
उपार्जन केंद्र प्रभारी


Share