बिलासपुर@विधायक शैेलेष ने मांगा डाक्टरों से रिपोर्ट कार्ड,स्वास्थ्य संचालक को किया फोन.कहा.निजी चिकित्सकों की मनमानी पर रखा जाए नजर

20
Share


बिलासपुर,09 जनवरी 2022 (ए)। पूरा प्रदेश कोरोना की मार से परेशान है। चिकित्सकों को संवेदनशील होकर मरीजों को देखना होगा। हर संक्रमित मरीज को ठीक करना हमारी जवाबदारी है। यह बातें सेन्ट्रल लायब्रेरी में स्वास्थ्य महकमे की बैठक में दौरान कही। विधायक ने कहा कि निजी अस्पतालों की मनमानी रोकना हमारी जिम्मेदारी है। जिम्मेदार अधिकारी लगातार निरीक्षण करें। सिम्स के सभी आरटीपीसीआर टेस्टिंग मशीन चालू किए जाएं। ताकी मरीजों को रिपोर्ट के लिए परेशान ना होना पड़े।
नगर विधायक शैलेष पांडेय ने कोरोना संक्रमण के रोकथाम की तैयारियों को ध्यान में रखते हुए जिले के स्वास्थ्य महकमे के साथ बैठक की। उन्होंने बिंदुवार स्वास्थ्य अधिकारियों और चिकित्सकों से विस्तार से संवाद किया। इस दौरान शैलेष ने डाक्टरों की टीम से होम आइसोलेशन, टेस्टिंग, ट्रेसिंग, दवाइयां, बेड, वैक्सीनेशन, निजी अस्पतालों समेत जानकारी मांगी।
संक्रमितों को घर पहुंच मेडिकल सेवा
विधायक के सवाल पर स्वास्थ्य अधिकारियों ने होम आइसोलेशन को लेकर जानकारी को साझा किया। स्वास्थ्य महकमे ने बताया कि 1675 सक्रिय मरीज होम आइसोलेटेड हैं। जिन्हें प्रतिदिन स्वास्थ विभाग फोन के माध्यम से लगातार सम्पर्क में है। संक्रमित सदस्य के परिवार के सदस्यों का कोविड टेस्ट किया जा रहा है। दवाइयां की घर पहुंच सेवा की जा रही है। डाक्टरों की टीम ने विधायक को बताया कि इस समय लगभग 150 बच्चे कोरोना संक्रमित हैं। इसके साथ ही गाइडलाइन के अनुसार वैक्सीनेशन का भी काम किया जा रहा है।
विदेशी नागरिक एवं अन्य राज्यों से आने वाले नागरिकों के लिए स्वास्थ्य विभाग को एयरपोर्ट एवं रेलवे जानकारी उपलब्ध कराता है, उसके माध्यम से ट्रेसिंग प्रक्रिया की जाती है। इन सभी के अनिवार्य रूप से कोविड टेस्ट किया जाता है एवं गाइडलाइन पालन करने कहा जाता है।
वैक्सीनेशन अभियान पर जोर
अधिकारियों ने बच्चों के वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 15 वर्ष से 18 वर्ष के कुल 1 लाख 10 हजार बच्चों को कोविड वैक्सीन लगाया जाना है। जिसके लिए 10 दिन का टारगेट तय किया गया है, वहीं अब तक 46 हजार बच्चों को प्रथम डोज लगाई जा चुकी है, इसके लिए स्कूलों में शिविर आयोजित कर बच्चों को कोविड वैक्सीन लगाई जा रही है।
जागरूकता अभियान पर जोर
स्लम क्षेत्र में रहने वाले लोगों को वैक्सीनेशन के लिए जागरूकको लेकर विशेष शिविर आयोजित किया जाएगा। लोगों को वैक्सीन के प्रति जागरूक कर वैक्सीन के लाभ और कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए बारे बताया जाएगा।
स्वास्थ्य अधिकारियों ने विधायक को बताया कि प्रतिदिन लगभग 4000 लोगों का कोरोना परीक्षण किया जा रहा है। विदेश और अन्य राज्यों से हवाई यात्रा करने वालों को एयरपोर्ट पहुंचते ही रैंडम टेस्ट किया जा रहा है। बस यात्रियों का कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के माध्यम से भी कोरोना परिक्षण किया जा रहा है।
सिम्स चिकित्सकों ने नगर विधायक को बताया कि बिलासपुर समेत आसपास के जिले से भी कोविड परीक्षण आरटीपीसीआर सैंपल सिम्स आ रहे हैं। सिम्स में पांच कोरोना परीक्षण आरटीपीसीआर मशीनें वायरोलॉजी लैब में स्थापित हैं। स्टाफ की कमी के कारण फिलहाल तीन मशीनें ही संचालित हैं।
इसी दौरान नगर विधायक शैलेष पांडेय ने तत्काल संचालक स्वास्थ्य सेवाएं नीरज बंसोड़ से फोन पर चिकित्सकों की समस्याओं से अवगत कराया। संचालक स्वास्थ्य सेवाएं ने नगर विधायक को बताया कि रविवार को इसकी बैठक बुलाई गई है जल्दी ही समस्याओं का समाधान किया जाएगा। बैठक में नगर विधायक शैलेष पांडेय ने स्पष्ट किया कि किसी भी मरीज के इलाज में कोताही नहीं होनी चाहिए। सिम्स में बच्चों के लिए 8 बेड समेत 2 वेंटिलेटर की व्यवस्था बनाई गई है। जबकि जिला अस्पताल में 10 बेड और 1 वेंटिलेटर की व्यवस्था है।
निजी चिकित्सकों की निगरानी
निजी अस्पतालों की मनमानी और व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम लगातार निरीक्षण करे। बिल और व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के लिए आवश्यक कदम भी उठाएं।


Share