अम्बिकापुर/लुण्ड्रा @मामूली धारा के कारण आरोपी को मिली जमानत,नाराज ग्रामीणों ने थाने का किया घेराव

71
Share

लुण्ड्रा थाना क्षेत्र का मामला,पुलिस की समझाइश के बाद आंदोलनकारियों ने विरोध प्रदर्शन किया समाप्त

अम्बिकापुर/लुण्ड्रा 06 जनवरी 2022 (घटती-घटना)। सरगुजा जिले के लुंड्रा पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए सैकड़ों ग्रामीणों ने थाना का घेराव किया। ग्रामीणों का आरोप है कि मारपीट के एक मामले में आरोपियों को बचाने के लिए पुलिस द्वारा मामूली धाराओं के तहत कार्रवाई की गई। जिसके विरोध में ग्रामीणों ने थाने का घेराव कर जमकर नारेबाजी की।
जानकारी के अनुसार लुण्ड्रा थाना अंतर्गत ग्राम कुंदीकला में पड़ोसी ग्राम आरा से कुछ लोग नये वर्ष के दिन 1 जनवरी को पिकनिक मनाने के लिए आए थे। इस दौरान वहां के एक स्थानिय व्यक्ति से विवाद के बाद दूसरे गांव के लोगों ने ग्रामीण के घर में घुसकर मारपीट की घटना को अंजाम दिया। इस दौरान घर में रहने वाली युवती से भी मारपीट की गई। आरोप है कि इस मामले पुलिस द्वारा साधारण धाराओं में अपराध दर्ज किया गया था जिसके बाद आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद उन्हें न्यायालय में पेश किया गया जहां से आरोपियों को जमानत मिल गई। इसके बाद घर पहुंचे आरोपियों ने पटाका फोड़ कर खुशियां मनानी प्रारंभ कर दी। जिसकी जानकारी मिलने पर कुंदीकला के ग्रामीण नाराज हो गए और पुलिस पर मामले में आरोपियों को बचाने का आरोप लगाते हुए बुधवार की शाम को थाने का घेराव कर दिया। घेराव करने आए ग्रामीणों का कहना है कि पीडि़त पक्ष आदिवासी समुदाय से है ऐसे में पुलिस को इस मामले में एसटी/एससी एक्ट के तहत भी धाराएं लगानी थी परन्तु पुलिस द्वारा मामले को जानबूझकर हल्का बनाए जाने के कारण आरोपियों का तत्काल जमानत मिल गई और वे खुशियां मनाने लगे। वहीं पुलिस की समझाइश के बाद आंदोलनकारियों ने विरोध प्रदर्शन समाप्त किया। जबकि 10 दिनों के भीतर आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं होने पर ग्रामीणों ने उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है। इस मामले में सरगुजा एएसपी विवेक शुक्ला का कहना है कि मामले में विधि सम्मत कार्यवाही हुई है तथा न्यायालय द्वारा जमानत देना या ना देना पुलिस के अधिकार क्षेत्र से बाहर का मामला है प्रार्थी पक्ष ने जो रिपोर्ट दर्ज कराई थी उसके अनुसार ही धाराएं लगाई गई थी।


Share