बैकुण्ठपुर@नपा चुनाव में अज्ञातवास के दौरान महिला पार्षद का बनाया गया वीडियो

610
Share

विधायक समर्थकों का साथ जाना और वीडियो बनाकर वायरल करना,हो रही अब आलोचना,विधायक समर्थकों के कारण विधायक की भी हो रही किरकिरी

पार्षदों के साथ अन्य किसी गैर पार्षद के जाने की थी मनाही,फिर कैसे पहुंचे विधायक समर्थक ?,महिला पार्षद की बातचीत का वीडियो विधायक के किसी खास ने बनायाःसूत्र

-रवि सिंह –
बैकुण्ठपुर 5 जनवरी 2022 (घटती-घटना)। कोरिया जिले की दो नगरपालिकाओं में संपन्न हुए वार्ड पार्षद चुनावों में विजयी कांग्रेस पार्षदों को सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी की बैकुंठपुर विधायक पार्षद चुनाव के परिणाम के दूसरे ही दिवस सभी को साथ लेकर जिसमें महिला व पुरूष पार्षद दोनों शामिल थे रायपुर रवाना हो गईं थीं और रायपुर से उसके अगले दिवस सभी को साथ लेकर वह अज्ञातवाश में भी चली गईं थीं। अज्ञातवाश के दौरान पार्षदों के साथ उनके परिवार से किसी को भी उनके साथ रहने की मनाही थी वहीं महिला पार्षदों के पतियों को भी साथ जाने की मनाही थी वहीं इन सभी प्रतिबंधों जो विजयी पार्षदों के ऊपर लागू थे कि बजाय कुछ विधायक समर्थक विधायक के साथ अज्ञातवाश के दौरान हर जगह हर पल मौजूद थे और वह सभी पार्षदों पर निगरानी रख रहे थे और सभी की गतिविधियों की वीडियोग्राफी भी कर रहे थे। वीडियोग्राफी की बात सामने इसलिए आ रही है कि अभी हाल में ही एक वीडियो वायरल की गई है और यह वीडियो पार्षदों के अज्ञातवाश के समय की है और ऐसा दावा भी किया जा रहा है और बताया जा रहा कि यह वीडियो एक महिला पार्षद का है और इस वीडियो को अज्ञातवाश के दौरान किसी विधायक समर्थक द्वारा बनाया गया है, इस वीडियो में एक महिला पार्षद के द्वारा कुछ कहा जा रहा है और आक्रोश व दुखी मन से कहा जा रहा है यह वायरल वीडियो में स्पष्ट जाहिर हो रहा है। वायरल वीडियो को लेकर अब यह सवाल उठने लगे हैं कि आखिर अज्ञातवाश में जब पार्षदों तक को किसी से बात करने और अपनी लोकेशन बताने की छूट नहीं थी मोबाइल तक शायद प्रतिबंधित थे तो ऐसे में यह वीडियो बनाकर वायरल करने वाला कौन है और इसे किसने छूट दी या अनुमति जब पार्षदों तक को मनाही थी किसी की वीडियो बनाने की और वायरल करने की।

वायरल वीडियो में पार्षद ने कही बड़ी बात

छोटे भैया सारे वार्डों में मेहनत किए तब जीत मिली छोटे भैया मेहनत नहीं करते तो क्या जीत मिलती? क्या मुस्लिम का हक नहीं है क्या आपका खून अलग मेरा खून अलग है? क्या वोट लेना सिर्फ आपका हक है मेरा नहीं क्या हमारा हक से वोट देना है? तीन बार की जीते हुए प्रत्याशी हूं 17 साल मेहनत किया कांग्रेस को सपोर्ट किया, मुझे इंसाफ चाहिए मैं काफी परेशान हो चुकी हूं मुझे हॉस्पिटल में एडमिट करा दो मेरा पति हर विधानसभा, लोकसभा यहां तक कि नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस के लिए काफी मेहनत किया हमें सिर्फ कांग्रेस पार्टी से इंसाफ चाहिए, इंसाफी नहीं हुआ तो बहुत ज्यादा हो जाएगा, आने वाले समय में उनका विधानसभा चुनाव में वार्ड को मजबूत करना है बैकुंठपुर को मजबूत करना है अशोक भैया को भी चुनाव में हमने सपोर्ट किया है यदि कोई आंकड़े खोल कर देख ले तो उन्हें हमारे वार्ड से सबसे ज्यादा वोट मिला है।

वीडियो वायरल करने वाले कि पहचान कर कार्यवाही की उठ रही मांग

इस संबंध में जो वीडियो महिला पार्षद के आक्रोश का दुख बयां करते समय का जारी हुआ है वह किसने बनाया और किस उद्देश्य से बनाया यह जानने की कोशिश करनी चाहिए ऐसा कांग्रेस के ही लोग कह रहें हैं,लोगों का कहना है कि महिला पार्षद की बातों को पहली बात तो मोबाइल से रिकार्ड नहीं करना था और यदि किया भी तो उसे वायरल करना बिल्कुल उचित नहीं कहा जा सकता।

पार्षदों के अज्ञातवाश के समय विधायक समर्थकों के साथ जाने को लेकर उठ रहा सवाल

बैकुंठपुर व शिवपुर चरचा नगरपालिका परिषद के विजयी कांग्रेसी पार्षदों को जिनमे महिला पार्षद भी शामिल थीं को जब शहर और जिले से बाहर अज्ञातवाश में ले जाया गया तो पार्षदों के किसी भी परिजन यहाँ तक कि महिला पार्षदों के पतियों को भी उनके साथ नहीं जाने दिया गया, लेकिन अब एक वायरल वीडियो जारी होने के बाद यह बात उठ रही है कि आखिर जब पार्षदों के ही परिजनों को साथ जाने की मनाही थी तो ऐसे में विधायक समर्थक उस दल में किस हैसियत से गये थे और किसकी अनुमति से जाकर वीडियोग्राफी कर रहे थे।

वीडियो वायरल होते ही विधायक की हो रही किरकिरी

बैकुंठपुर विधायक की जिले के कांग्रेसी पार्षदों को अज्ञातवाश में ले जाने के दौरान की वीडियो जारी होने के बाद विधायक की किरकिरी हो रही है। विधायक पर यह आरोप लग रहे हैं कि जब सबकुछ गोपनीय था तो क्यों किसी ने आपसी बातों का वीडियो बनाया। आपसी बातों को गोपनीय क्यों नहीं रखा गया और आखिर वीडियो वायरल क्यों किया गया।


Share