अम्बिकापुर@कृषि महाविद्यालय में राष्ट्रीय किसान दिवस का आयोजन

41
Share

अम्बिकापुर 25 दिसम्बर 2021 (घटती-घटना)। राजमोहिनी देवी कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र में राष्ट्रीय किसान दिवस, मुख्य अतिथि माननीय संसदीय सचिव व विधायक भटगांव पारसनाथ राजवाड़े तथा इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अधिष्ठाता डॉ. पी. के. जायसवाल तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में वृक्ष मित्र ओ.पी. अग्रवाल, बहुउद्देशीय शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, अंबिकापुर के प्राचार्य एस.के.जायसवाल एवं ब्लॉक अध्यक्ष गोवर्धन सिंह एवं अर्जुन देवांगन के आतित्थ्य में 23 दिसम्बर 2021 को सम्पादित हुआ ढ्ढ इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि द्वारा राष्ट्रीय किसान दिवस के अवसर पर देश की अर्थव्यवस्था में कृषि के योगदान को सराहा व कृषि महाविद्यालय के योगदान से किसानों के हित में उत्पादन वृद्धि, उन्नतशील व वैज्ञानिक पद्धति द्वारा अधिक लाभ लेकर अधिक आय प्राप्त किया जा सकता है, जिससे जीवन स्तर में सुधार हो सके ढ्ढ इस अवसर पर राजमोहिनी देवी कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र अंबिकापुर, एक-झलक फोल्डर का विमोचन मुख्य अतिथि के कर कमलों से किया गया और मुख्य मार्ग से महाविद्यालय के बीच जर्जर मार्ग को बनवाने का आश्वासन दिया गया तथा साथ ही साथ वितीय वर्ष 2022-23 के बजट में इसको सम्मिलित करने एवं महाविद्यालय के ऑडिटोरियम हेतु जनरेटर देने का भी आश्वासन दिए ढ्ढ अधिष्ठाता डॉ. पी.के.जायसवाल ने राष्ट्रीय किसान दिवस के महत्व को बताते हुए कृषि का देश के सकल घरेलू उत्पाद में योगदान के साथ-साथ कृषि में रोजगार के अवसर के बारे में विस्तार पूर्वक बताया तथा स्व. चौधरी चरण सिंह पूर्व प्रधानमंत्री के जन्म दिवस पर यह राष्ट्रीय किसान दिवस आयोजित किया गया एवं उनके जीवन संघर्ष एवं किसानों के विकास के प्रति उनके लगाव से अवगत कराया ढ्ढ अधिष्ठाता ने राजमोहिनी देवी कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र अंबिकापुर के स्थापना से लेकर वर्तमान समय तक के उपलब्धियों के बारे में जानकारी दिए साथ ही ढ्ढष्ट्रक्र के द्वारा कृषि महाविद्यालयों की रैंकिंग में हमारे विश्वविद्यालय के 16 वें स्थान प्राप्त होने की जानकारी देते हुए महाविद्यालय से राष्ट्रीय स्तर पर चयनित विद्यार्थियों का प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेशित छात्रों के बारे में बताया तथा महाविद्यालय से मुख्य मार्ग के बीच में जर्जर मार्ग की स्थिति से मुख्य अतिथि को अवगत कराया ढ्ढ विशिष्ट अतिथि, वृक्ष मित्र श्री ओ.पी. अग्रवाल द्वारा वृक्ष का दैनिक जीवन व कृषि में योगदान के बारे में विस्तार से बताया गया साथ ही साथ निस्वार्थ भाव से पेड़ पौधों की देखभाल करने के लिए किसानों व स्कूल के कृषि छात्रों को प्रेरित किएढ्ढ ओ.पी. अग्रवाल द्वारा महाविद्यालय की वर्तमान अधोसंरचना को विश्वविद्यालय स्तर का बताते हुए केन्द्रीय आदिवासी कृषि विश्वविद्यालय स्थापित करने की मांग किए, जिसे मुख्य अतिथि ने शासन स्तर पर आगे बढ़ाने का आश्वासन दिया ढ्ढ कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों का अधिष्ठाता द्वारा फलदार वृक्ष लीची से सम्मानित किया गया तथा कार्यक्रम में उपस्थित कृषि शिक्षकों व स्कूल के छात्रों एवं किसानो को भी फलदार वृक्ष देकर सम्मानित किये ढ्ढ भोजनावकाश के पश्चात कृषकों का प्रशिक्षण एवं कृषक-वैज्ञानिक परिचर्चा आयोजित की गई ढ्ढ इस कार्यक्रम में महाविद्यालय से विभिन्न वैज्ञानिकगण जिसमें डॉ. ए. के. सिंह, डॉ. ए. के. पालीवाल, डॉ. जी. पी. पैकरा, डॉ. पी. के. भगत, डॉ. के. एल. पैकरा, डॉ. जितेंद्र तिवारी, डॉ. रुथ एलिजाबेथ एक्का, डॉ. राहुल आर्य, डॉ आर. एस. सिदार, डॉ. रंजीत कुमार, डॉ. नीलम चौकसे, श्रीमती अरुणिमा त्रिपाठी, सुश्री किरण तिग्गा, डॉ. जहार सिंह व कर्मचारीगण जिसमें, डॉ. सचिन जायसवाल, श्री अमलेश प्रसाद निषाद, श्री धीरेश पंडित, श्रीमती लिली रश्मि एक्का, श्रीमती देवेंद्र सिंह पैकरा सुश्री कान्ता कुजुर, श्रीमती सरस्वती शुक्ला, श्री दीपक पांडे, श्री दशरथ दास एवं महाविद्यालय के छात्र -छात्राएं उपस्थित रहे।


Share