रायपुर @ मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में किसानों को सम्मानित किया

70
Share


रायपुर, 28 दिसंबर 2021 ( ए )। मंगलवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बालोद जिले के दौरे पर रहें। उनकी पहली सभा डौंडीलोहारा क्षेत्र के ग्राम गोड़मर्रा में हुई। जहां पर उन्होंने स्वर्गीय राजीव गांधी की प्रतिमा का अनावरण भी किया। इस दौरान किसान सम्मलेन का आयोजन किया गया था। किसान सम्मेलन के मंच पर किसान भाईयों द्वारा किसान पगड़ी और प्रतीक स्वरूप नांगर देकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का अभिनन्दन किया गया। किसान सम्मेलन में संसदीय सचिव व गुण्डरदेही विधायक कुंवर सिंह निषाद, संजारी-बालोद विधायक संगीता सिन्हा, जिला पंचायत बालोद अध्यक्ष सोनादेवी देशलहरा भी उपस्थित थी।
सीएम ने की
चार घोषणाएं
मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों सहित विधायक कुंवर सिंह निषाद व अन्य लोगों द्वारा प्राप्त हुए मांगों को लेकर घोषणाएं भी की। उन्होंने कहा कि खरखरा जलाशय का नामकरण राजीव गांधी जलाशय के नाम से और खरखरा मोहन्दीपाट सिंचाई परियोजना का नाम दाऊ प्यारेलाल बेलचंदन के नाम से होगा। तो गोड़मर्रा से सुरेगाव तक 3ः50 किमी तक सड़क बनाई जाएगी। साथ ही गोडमर्रा पाट के सौंदर्यीकरण की घोषणा भी सीएम ने की।
किसानों को मिलेगा वाजिब दाम : सीएम
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम दिलाने में जब अड़चन आयी तो राजीव गांधी किसान न्याय योजना लागू की गई। समर्थन मूल्य के अलावा राजीव गांधी किसान न्याय योजना के जरिए किसानों को इनपुट सब्सिडी के रूप में 9 हजार रुपए प्रति एकड़ के मान से दी जा रही है। इस बार अब तक 45 सौ करोड़ रुपए किसानों के खातों में पहुंच चुका है, वहीं 12 सौ करोड़ रुपए मार्च महीने में खातों में पहुंच जाएगा। बीते वर्ष हमने किसानों को 57 सौ करोड़ रुपए भुगतान किया और इस वर्ष भी पूरा भुगतान करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र से अपने हिस्से की डीएपी के लिए छत्तीसगढ़ सरकार पूरा प्रयास करेगी लेकिन डीएपी नहीं मिलता है तो गोबर से बनाए गए वर्मी कम्पोस्ट खाद के रूप में काम आएगा। उन्होंने किसानों से ज्यादा-से-ज्यादा वर्मी कम्पोस्ट बनाने का आह्वान किया।
विधायक संगीता सिन्हा ने रखी 9 मांगे
गोड़मर्रा में ही कार्यक्रम के दौरान बालोद विधायक संगीता सिन्हा ने भी अपनी 9 सूत्रीय मांगों को लेकर अलग-अलग मांग पत्र मुख्यमंत्री को मंच पर ही सौंपा। जिनमें प्रमुख मांगे बालोद में कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र की स्थापना, बालोद जिला में डाइट (जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान) की स्थापना, बालोद राजनांदगांव मुख्य मार्ग पर पाररास बालोद में ओवरब्रिज का निर्माण, बालोद विधानसभा क्षेत्र के एकमात्र सिंचाई ग्राम औराभांठा को सिंचाई के नाम से राजस्व ग्राम में परिवर्तित करना, शासकीय हाई स्कूल नेवारीकला को हायर सेकेंडरी स्कूल में उन्नयन करना, बालोद में एलएलएम कॉलेज लॉ स्नातकोत्तर की स्वीकृति दिलाने, गंगरेल डुबान प्रभावित गांव पोंड, भैसमुंडी, अलोरी, मुसकेरा व ओनाकोना के ग्रामीणों को अन्यत्र स्थापित करने, ग्राम मुल्ले, मुल्लेगुड़ा व हर्राठेमा के किसानों द्वारा उत्पादित धान को समर्थन मूल्य पर खरीदने एवं अन्य लाभ दिलाने की मांग, नेवारीकला में तांदुला नदी में एनीकट सह रपटा निर्माण की मांग उन्होंने रखी।
कुंवर निषाद ने
ये मांगे रखी
इसी तरह गुंडरदेही विधायक कुंवर सिंह निषाद ने भी विभिन्न मांगे रखी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के पिनकापार, जेवरतला रॉड, चौरेल, डौंडी लोहारा में नवीन कॉलेज खुले। केंद्रीय विद्यालय पैरी में खुले।बालोद में डाइट केंद्र खुले ताकि प्रशिक्षण के लिए दूसरे जिला ना जाना पड़े। उसके लिए मैं अर्जुन्दा में जगह देने तैयार हूं। सुरेगांव में एकलव्य विद्यालय खुले। भेड़ी के उद्वहन सिंचाई योजना भी पूरा हो। हडग़हन जलाशय के जीर्णोद्धार के लिए 5 करोड़ 50 लाख स्वीकृति के लिए आभार जताया। जिसका 123 साल बाद जीर्णोद्धार होगा। विधायक ने कहा हमारी एक मांग ये भी है कि उक्त जगह हरदेलाल बाबा का धाम है। ढाई करोड़ और स्वीकृत हो जाये तो उक्त जगह को विशेष पर्यटन स्थल बना सकते हैं।


Share