15 समूहों को रोजगार शुरू करने मासिक स्वच्छता प्रबन्धन किट का प्रोजेक्ट ईज्जत के माध्यम से वितरण

40
Share


बिना पूंजी लगाये दिन का एक दो घंटे खर्च कर आमदनी प्राप्त करेंगी महिलाएँ

अम्बिकापुर 20 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। अम्बिकापुर,लुंड्रा,बतौली एवं सीतापुर ब्लॉक के स्व सहायता समूह की महिलाओं का माहवारी स्वच्छता प्रबंधन पर आज एक दिवसीय उन्मुखीकरण प्रशिक्षण का आयोजन सरगुजा साइंस ग्रुप एवं जन शिक्षण संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित हुआ। जिसमें 15 समूहों की महिलाओं को रोजगार शुरू करने के लिए मासिक स्वच्छता प्रबन्धन के कार्य से जोड़ते हुए उन्हें बिना पूंजी लगाये 3000-3000 रुपये का सैनेटरी पैड एवं जागरूकता कार्यक्रम हेतु पैड का वितरण किया गया। एक गांवों में कैसे माहवारी स्वच्छता पर कार्य करना है, इस पर दो सत्रों में विभिन्न विषयों पर सार्थक चर्चा हुई।
कार्यक्रम के प्रथम सत्र में जन शिक्षण संस्थान के निदेशक एम.सिद्दीकी ने स्व सहायता समूह की जरूरत, निर्माण की प्रक्रिया एवं कार्य करने के तरीके सहित विभिन्न विषयों पर जानकारी दी एवं समूह की महिलाओं के विभिन्न प्रश्नों का जवाब दिया। उन्होंने भारत सरकार के स्किल मंत्रालय द्वारा महिलाओं के लिए चलाये जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी दी एवं महिलाएं कैसे ट्रेनिंग ले सकती हैं, इस पर चर्चा की। सीए निष्ठा पांडेय ने माहवारी पर परम्परागत चलने वाले रूçढ़गत विषयों को सामने रखा तथा बताया कि आज हम सब 21वीं सदी में जी रहे हैं और हमें इन रूçढ़यों को बदलना है, मुझे खुशी हो रही है कि ग्रामीण महिलाएं ऐसे विषयों पर आगे आकर कार्य कर रहीं हैं। घरों से निकल कर आपका कार्य करना यह बताता है कि आपने इस विषय को समझा है और माहवारी स्वच्छता क्यों जरूरी है, इस पर अब दूसरों को समझाने का बीड़ा उठाया है। हम सब के आपसी सहयोग से हम इस पर बेहतर कार्य करेंगे और रूçढ़गत विचारों को माहवारी को लेकर समाज में फैले किवंदितियों को धीरे-धीरे निकाल फेकेंगे। सुखद मातृत्व के लिए माहवारी जरूरी है और यह घबराने, छुपाने या दूर भागने की चीज नहीं, बल्कि नवसृजन हेतु आवश्यक प्रकृति प्रदत्त एक सिस्टम है।
इस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर कार्य करने के लिए, समूहों को एकजुट करने के लिए जन शिक्षण संस्थान के निदेशक एम.सिद्दीकी, पवित्रा प्रधान, अमित दुबे, दीपा यादव, प्रिया यादव, प्रियंका सिंह, कमला प्रधान, सुशीला प्रधान, सदीकुन निशा, राशि सिंह, चंपा, दीपांजलि, सावंत, मुनिता, श्रीमती, सरिता, शकुंतला, मोहरमनी, भुनेश्वरी, गुलाबी, दीप्ति, गुलाब केशरी, अणिमा, अंजली का प्रशस्ती पत्र द्वारा सम्मान किया गया एवं अम्बिकापुर, लुंड्रा, बतौली, सीतापुर के 15 समूहों को मासिक स्वच्छता प्रबन्धन किट प्रोजेक्ट ईज्जत के माध्यम से वितरित किया गया, जिसके माध्यम से महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण की राह आसान होगी।कार्यक्रम का संचालन सुनीता दास ने किया, इस अवसर पर रमेश कुमार, विवेक सिंह, आकाश, स्नेहलता, वंदना, अंजुलता सहित काफी संख्या में कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उपस्थित थे।

बहनों को जागरूक कर दें सुखद स्वास्थ्य का मंत्र

सीए तृषा समादर ने प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि एक ऐसा विषय जो हम से जुड़ा है और हम ही इस पर बात करने से कतराते हैं, कैसे हम इन सब चीजों से बाहर आयेंगे, अपने आपको उस दौरान सवच्छ रखेंगे यह बेहद जरूरी और हमारे स्वास्थ्य से जुड़ा विषय है, इस पर तो हमें तमाम बंदिशों से बाहर निकल कर बात करना होगा। अन्यथा यह हमारे मातृत्व एवं स्वास्थ्य दोनों के लिए घातक होगा। आज जब हम यहां से जायें तो कम से कम यह प्रेरणा लेकर जायें की ज्यादा नहीं 10 बहनों को जागरूक करेंगे। सुखद स्वास्थ्य का मंत्र देंगे, माहवारी स्वच्छता प्रबंधन की जानकारी देंगे।


Share