रामानुजगंज@रामानुजगंज में कांग्रेसियों ने नहीं मनाया 137 वे स्थापना दिवस,बना चर्चा का विषय

75
Share


रामानुजगंज 29 दिसंबर 2021(घटती घटना) जिस पार्टी के नाम से पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं की पहचान होती है उसी पार्टी का स्थापना दिवस नहीं मनाय जाने से कार्यकर्ताओं में निराशा का भाव उत्पन्न हो रहा है क्योंकि यही मौका होता है जब उस पार्टी या संगठन से जुड़े हुए लोग अपनी बात को रखकर समस्याओं का समाधान चाहते हैं लेकिन उनको अपने दिल की बात दिल में ही दबानी पड़ी। रामानुजगंज में कांग्रेस के 137 वें और कांग्रेस सेवादल के 98 वें स्थापना दिवस का कार्यक्रम नहीं मनाया गया। जो चर्चा का विषय बना हुआ है। छत्तीसगढ़ प्रदेश में पिछले 15 वर्षों से वनवास झेल रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं की उम्मीद जगी थी कि अब हमारी सरकार बन गई है कुछ तो राहत की सांस मिलेगी। लेकिन निष्ठावान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के हांथ अभी भी निराशा ही लगा है। वैसे देखा जाए तो किसी को किसी की बात सुनने की फुर्सत नहीं है लेकिन कुछ कार्यकर्ताओं ने यह आस लगाए रहते हैं कि पार्टी और संगठन के कार्यक्रम में अपनी बातों को रख कर उसका समाधान हम पा सकते हैं और ऐसे
कार्यक्रमों का उनको बेसब्री से इंतजार रहता है लेकिन अफसोस की बात यह है कि कांग्रेस के स्थापना दिवस पर रामानुजगंज में कोई भी कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया गया जिससे निष्ठावान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में मायूसी की लहर है। उक्त संबंध में जब जिला किसान मोर्चा के अध्यक्ष डॉक्टर दिनेश यादव से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि जिनको जिम्मेवारी सौंपी गई है यदि वही हमें नहीं बुलाते तो हम क्या कर सकते हैं कार्यक्रम तो नहीं हुआ है। जिला कांग्रेस कमेटी के सचिव सुनील कन्हारे ने कहां की जिले में कुछ ब्लॉक को छोड़कर बाकी ब्लाकों में पार्टी स्तर के बहुत कम ही कार्यक्रम आयोजन किए जाते हैं जिससे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में हमेशा निराशा का भाव देखने एवं सुनने को मिलता है। कई कार्यकर्ताओं को यदि किसी भी प्रकार का कोई अति आवश्यक कार्य भी रहता है तो संबंधित ब्लाक के अध्यक्षों सहित अन्य पदाधिकारियों को फोन करने पर भी लोग फोन रिसीव नहीं करते और कहते हैं कि आपका फोन आया था मैं सोचा कि लगाकर बात करूंगा लेकिन फिर काम में मैं भूल गया इस तरह का बेतुका शब्द का इस्तेमाल करना समझ से परे है जिस कार्यकर्ताओं के दम पर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनी है उन्हीं लोगों के साथ यदि इस प्रकार का दुर्व्यवहार किया जाएगा तो आने वाले समय में परिणाम विपरीत हो सकता है क्योंकि चुनाव के समय एक एक कार्यकर्ताओं की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण होती है।


Share