अम्बिकापुर@गठिया वात व अन्य ऑटोइम्यून बीमारी लाईलाज नहीं

55
Share

अम्बिकापुर 21 दिसम्बर 2021 (घटती-घटना)।आईएमए अंबिकापुर ब्रांच व हेल्थ केयर हॉस्पिटल के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित वार्षिक कार्यशाला का आयोजन में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली के रूमेटोलॉजी व ऑटोइम्यूनविभाग की विभागाध्यक्ष डॉ उमा कुमार का व्याख्यान हुआ। व्याख्यान में जानकारी दी गई कि गठिया वात व अन्य ऑटोइम्यून बीमारी जैसे एसएल स्क्लेरोसिस लाइलाज नहीं है। इन बीमारियों का उचित रोकथाम मुमकिन है। आवश्यकता है की बीमारी का कारक ऑटोइम्यून की पहचाने के बाद विभिन्न जांचों से शरीर के विभिन्न अंगों में संलिप्तता व प्रकार की पहचान करें। चिकित्सकों को दवाइयों का उपयोग बीमारी के बारे में संपूर्ण जानकारी लेने के पश्चात ही करना चाहिए। नवीनतम तकनीक की सहायता से ऑटोइम्यून बीमारी को समझना व मरीज के पीड़ा का निवारण करना संभव हुआ है। आईएमए की वार्षिक बैठक में 2022-2023 सत्र के लिए नई आईएमए टीम का सर्वसम्मति से चुनाव किया गया। आईएमए अंबिकापुर के अध्यक्ष पद हेतु शल्य चिकित्सक डॉक्टर अंजु गोयल, सचिव पद के लिए यूरो सर्जन डॉक्टर योगेंद्र गहरवार, कोषाध्यक्ष डॉक्टर अक्षय गोयल नेत्र चिकित्सक को चयनित किया गया। पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर डीडी अग्रवाल ने नई टीम को शुभकामनाएं देते हुए चिकित्सकों की एकजुटता बनाए रखने व ज्यादा से ज्यादा नए चिकित्सकों को आईएमए से जोडऩे की बात कही। कार्यक्रम में डॉक्टर एलपी सोनी, डॉ. एसएस सिंह, डॉ. एमके जैन, डॉ जेके रेलवानी, डॉ. निखिल, डॉ मयंक डॉ, निकिता, डा. अपेक्षा सिंह हरवंश, डॉ रूपेश गुप्ता, डॉ, सुजीत अग्रवाल व अन्य गणमान्य चिकित्सक उपस्थित रहे। उक्त जानकारी आईएमए जोनल चेयर पर्सन डॉक्टर शैलेंद्र गुप्ता ने दी।


Share