रामानुजगंज@जिला मुख्यालय बलरामपुर में विभिन्न मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने निकाली रैली

44
???????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????
Share

रामानुजगंज 01 अक्टूबर 2021(घटती घटना)। जिला और राज्य सरकार से अपनी विभिन्न मांगें पूरी कराने की मांग को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवम सहायिकाओं ने गुरुवार को एक दिवसीय हड़ताल कर धरना प्रदर्शन करते हुए रैली निकालकर ज्ञापन सौंपा।
सुबह से ही छत्तीसगढ़ कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ के द्वारा नया बाजार तहसील कार्यालय के सामने जिले भर से आईं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिकाएं एकत्रित हुई और वही धरना प्रदर्शन कर अपनी मांगों को रखते हुए उन्होंने रैली निकालकर कलेक्ट्रेट पहुंचे जहां कलेक्टर की अनुपस्थिति में उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम बलरामपुर को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान संघ के पदाधिकारियों में जिला अध्यक्ष श्रीमती गायत्री बाऊल एवं जिला सचिव श्रीमती तरूलता ज्वारदार ने अपनी मांगों के बारे में बताते हुए कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को अपने रोजगार को बचाने तथा अधिकारों को हासिल करने के लिए कई स्तर पर संघर्ष करते रहना पड़ता है एकीकृत बाल विकास योजना आईसीडीएस केंद्र सरकार की योजना है जिसे राज्य सरकार की मदद से लागू किया जा रहा है पर बिना मोबाइल के पोषण ट्रैकर एप को लागू किया जा रहा है। इसलिए विरोध कर रहे हैं। वहीं न्यूनतम वेतन रोजगार की सुरक्षा समय पर भुगतान कराने के लिए राज्य सरकार से लड़ाई होती है। उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं सहायिकाओं फेकेंडरेशन आईफा के राष्ट्रीय आवहन पर हम सबो ने लगातार अपनी मांगों को सरकार के समक्ष रखा जिसके लिए हमने 50 दिनों तक आंदोलन भी किया और हाल ही में 9 सितंबर 20 21 को तीज त्योहारों के दिन भी सरकार का ध्यान आकर्षित कराया लेकिन उनके द्वारा कोई सकारात्मक पहल नहीं की गई। कोविड-19 जैसे गंभीर बीमारी के समय भी हम सब उन्हें पूरी निष्ठावान के साथ अपनी सेवाएं दी जबकि कांग्रेसी सरकार के द्वारा अपने जन घोषणा पत्र में वादा किया गया था कि कलेक्टर दर देने का उसको भी पूरा नहीं किया जा रहा है जिसके कारण पूरे प्रदेश भर के समस्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं में सरकार के प्रति आक्रोषित है। जैसे राज्य सरकार अन्य विभागों की मांग को पूर्ण कर रही है वैसे ही हमारी भी मांग पूर्ण करें। इसके बावजूद भी यदि सरकार हम सब के मांगों को पूर्ण नहीं करती है तो हम सबों का चरणबद्ध संघर्ष जारी रहेगा।


यह हैैं प्रमुख मांगें

30 हजार रुपए न्यूनतम वेतन दिया जाए। मासिक पेंशन भविष्य निधि चिकित्सा सुविधा एवं अन्य सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ दिया जाए, मानदेय भी 01 से 05 तारीख तक हर माह दिया जाए, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को अन्य विभागों के कामों से मुक्त रखा जाए।
फोटो क्रमांक 1 से 3 लगाए।


Share