उल्टी-दस्त से पिता और पुत्री की मौत,मासूम सहित दो की हालत गंभीर

38
Share


मौत पर पर्दा डालने में जागा स्वास्थ्य विभाग मौत का कारण बता रहा है बीमारी

अम्बिकापुर 18 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। सरगुज़ा जिले के मैनपाट के सुपलगा मैं उल्टी दस्त से दो लोगों की मौत का मामला सामने आया है। मृतकों में पिता और पुत्री शामिल हैं। मृतक का पत्नी व मृतिका के 6 महीने का बच्चे का हालत भी गंभीर बताया जा रहा है। इन दोनों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वही स्वास्थ्य विभाग इसे मौत का कारण उल्टी दस्त नहीं बता रहा है। जबकि सूचना मिलने पर एसडीएम दीपिका नेताम पूरी टीम के साथ गांव में पहुंचकर हालात की जानकारी ली है। घटना के बाद से जिला प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है।
स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम सुपलगा निवासी टोर्री मझवार ( 45 वर्ष) की तबीयत कुछ दिनों से खराब चल रहा था। उसे इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 13 सितंबर को अस्पताल से छुट्टी कराने के बाद उसे घर ले जाया गया था। 17 तारीख़ की देर रात उल्टी-दस्त शुरू हो गई और देखते ही देखते उसकी मौत हो गई। वहीं उसकी बेटी फुलासो (23 वर्ष) भी उल्टी दस्त से पीडç¸त थी। उसे इलाज के लिए कमलेश्वरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया यहां शनिवार की दोपहर मैं उसकी भी मौत हो गई। बताया गया कि मृतिका फुलासों का 6 महीने का बेटा दीपक भी बीमार है, जिसे गंभीर अवस्था में कमलेश्वरपुर अस्पताल से अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर किया गया है। वही मृतक टोर्री मझवार की पत्नी केंदी बाई भी उल्टी दस्त से पीडç¸त बताई जा रही है। उसे भी कमलेश्वर पुरस्कार में भर्ती कराया गया है।


पहुंच वहीं है सुपलगा


सरगुजा जिले के मैनपाट के सुपलगा पहुंच वहीं है। बीच में मछली नदी होने के कारण बारिश के दिनों में आवागमन रुक जाता है। स्थानीय लोगों के अनुसार मृतिका फुलासो को तबीयत खराब होने पर उसे किसी तरह झेलगी मैं नदी पार कराया गया था और उसे इलाज के लिए कमलेश्वरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी मौत हो गई। इसकी मौत हो जाने से 6 माह का दुधमुंहा बेटा अनाथ हो गया।


जिला प्रशासन के बीच हड़कंप


उल्टी दस्त से दो लोगों की मौत की खबर सुनते ही जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है। एसडीएम दीपिका नेताम पूरी टीम के साथ 22 किलोमीटर घूम कर गांव जाना पड़ा। ग्राम सुपलगा पहुंच मीन होने के कारण अधिकारियों को लगभग डेढ़ से 2 किलोमीटर पैदल चलकर गांव जाना पड़ा।


उल्टी दस्त से नहीं हुई है मौत


उल्टी-दस्त से कोई मौत नहीं हुई है वहां से, एक 73 साल का आदमी था, उसको अचानक कार्डियक अरेस्ट आया, सुपलगा का है वो, उसका इलाज़ किया गया है। उसकी बेटी 4 दिन पहले पेट दर्द के कारण मेडिकल कॉलेज में भर्ती थी, उसको सस्पेक्टेड रेट्रोनॉइट्स था, और वो इधर आ गए थे। अभी दो दिन से यहां भर्ती थे, उनका डेथ हुआ है।


पीएस सिसोदिया (सीएमएचओ सरगुज़ा)


Share