बैकु΄ठपुर @कोरिया जिले की पुलिस ले रही है बख्शीश, वायरल वीडियो में किया जा रहा ऐसा दावा

190
Share

मामला कोरिया जिले के कोटाडोल थाने से जुड़ा हुआ,थाने के अंदर का बताया जा रहा है वीडियो,रेत ठेकेदार की तरफ से मिल रही बख्शिश

रेत ठेकेदार से प्रधान आरक्षक की है जुगलबंदी,इसीलिए तबादला पश्चात भी बने हुए हैं थाने में

  • रवि सिंह-

बैकु΄ठपुर 07 नवम्बर 2021 (घटती-घटना)। कोरिया जिले की पुलिस ले रही है बख्शिश, वायरल वीडियो में किया जा रहा ऐसा दावा। वीडियो में बख्शिश की बात भी सुनाई दे रही है स्पष्ट, रेत ठेकेदार की तरफ से मिल रही बख्शिश। मामला कोरिया जिले के कोटडोल थाने से जुड़ा हुआ, थाने के अंदर का बताया जा रहा है वीडियो। थाने के स्थानान्तरित प्रधान आरक्षक वितरित कर रहें हैं ठेकेदार की तरफ से बख्शिश। रेत ठेकेदार से प्रधान आरक्षक की है जुगलबंदी, इसीलिए तबादला पश्चात भी बने हुए हैं थाने में।
कोरिया जिले के दूरस्थ व वनांचल क्षेत्र कोटडोल थाने की एक ऐसी वीडियो जारी हुई है और जिसमें यह भी बताया जा रहा है कि यह वीडियो दिनांक 4 व 6 नवम्बर के दरम्यान का है और यह वीडियो बिल्कुल थाने के भीतर का है जिस दौरान लगभग 7 पुलिसकर्मी भी थाने में मौजूद हैं एक प्रधान आरक्षक सभी को दीपावली की बख्शिश बांट रहा है, वैसे वीडियो में यही शब्द भी सुनाई दे रहा है जिसमें प्रधान आरक्षक बाकायदा कहते सुनाई दे रहें हैं कि यह दीवाली की बख्शिश है और इसे सभी लोग रख लें, यह बख्शिश रेत ठेकेदारों की तरफ से दिया गया दीवाली तोहफा है पुलिस को यह भी वायरल वीडियो के अनुसार साफ साफ सुनाई भी दे रहा है। बता दें कि कोरिया जिले का कोटाडोल क्षेत्र वन क्षेत्र है वही यहां कई छोटी बड़ी नदियां निकलती है जिनके रेत का अवैध कारोबार यहां से किया जाता है जो अन्य प्रदेशों में भेजकर ठेकेदार मोटी रकम कमाते हैं।

बड़ी बड़ी आधुनिक मशीनों से होता है रेत उत्खनन

भरतपुर क्षेत्र अंतर्गत कोटाडोल से भी बड़ी मात्रा में रेत उत्खनन अवैध तरीके से किया जाता है यह सर्वविदित है, यहां रेत खदानों में बड़ी बड़ी आधुनिक मशीनों के द्वारा रेत उत्खनन कर बाहर अन्य राज्यो को भेजा जाता है और बड़े स्तर पर राजस्व की क्षति साथ ही प्राकृतिक संपदा की क्षति की जाती है।

सरकारी तंत्र को कब्जे में रखते है रेत ठेकेदार

रेत ठेकेदार हमेशा रेत का अवैध कारोबार करने के लिए सरकारी तंत्र को अपने कब्जे में रखते हैं, खनिज विभाग हो,वन विभाग या राजस्व सहित पुलिस विभाग सभी को रेत ठेकेदार अपनी गिरफ्त में रखते हैं जिसकी वजह से कभी भी उनकी आमदनी और उनके अवैध कारोबार पर कोई असर नहीं पड़ता है, पुलिस थाने में बख्शिश का मामला भी सरकारी तंत्र को अपने गिरफ्त में रखने के प्रयास के तहत सतत जारी रेत ठेकेदारों का अभियान है जो जारी ही रहता है और हर अवसर पर वह ऐसे तोहफे दिया करते हैं।

प्रधान आरक्षक रेत ठेकेदार के हैं खास

वायरल वीडियो में जिस प्रधान आरक्षक द्वारा बख्शिश कहकर पैसा बांटा जा रहा है वह रेत ठेकेदारों से काफी करीबी रखता है यह भी बताया जाता है वहीं उसका तबादला हो चुका है फिर भी वह थाने में ही जमा हुआ हज यह भी बात सामने आ रही है, वहीं यह भी बताया जा रहा है कि रेत ठेकेदार प्रतिमाह प्रधान आरक्षकों को 10 हजार वहीं आरक्षकों को 5 हजार रुपये बख्शिश दिया करता है लेकिन प्रधान आरक्षक द्वारा यह राशि थाने में न बांटकर खुद रख ली जाती है।

थाने के सीसीटीवी में भी बख्शिश वाली वीडियो मिलेगी ऐसा भी किया जा रहा दावा

वायरल वीडियो चूंकि थाने के भीतर का बताया जा रहा है और यह 4 नवम्बर व 6 नवम्बर के बीच का है वहीं थाने में सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं तो यह भी दावा किया जा रहा है कि पूरा वीडियो थाने के सीसीटीवी से भी मिल सकता है जिसमे बख्शिश बांटा जा रहा है।

क्या शासकीय सेवक भी लेते हैं बख्शिश

बख्शिश शब्द की सीधी परिभाषा है अत्यंत प्रसन्नता में किसी खास अवसर पर दिया गया पारितोषिक, वैसे यह पारितोषिक बख्शिश शब्द के साथ दिए जाने की स्थिति में एक तरह का दान या यह कहें किसी कमजोर की मदद जैसा उद्देश्य वाला उपक्रम होता है इसलिए अब यह सवाल उठता है कि क्या पुलिस के पारश्रमिक में कमी है और उन्हें बख्शिश की जरूरत पड़ रही है और यदि ऐसा सही है तो फिर कानून व्यवस्था भगवान भरोशे है क्योंकि जो बख्शिश के नाम पर अपनी ही बहुमूल्य संपदा का सौदा कर वह कानून का दुरुपयोग भी करेगा यह तय है।


Share