रामानुजगंज @ पहाड़ी माई मंदिर में दुर्गा अष्टमी पर किया गया भव्य भंडारे का आयोजन

19
Share

रामानुजगंज 13 अक्टूबर 2021 (घटती-घटना)। आदिशक्ति की उपासना का महापर्व शारदेय नवरात्र में देवी दुर्गा की अराधना में 13 अक्टूबर को माता के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा अर्चना की गई। इसके उपरांत माता के कन्या स्वरूप में छोटी-छोटी कन्याओं का भी पूजन कर चना और हलवा का प्रसाद ग्रहण कराया गया। नवरात्रि के आठवें दिन यानी कि महाअष्टमी को कन्या पूजन से पहले महागौरी की पूजा का विधान है। महागौरी की पूजा अत्यंत कल्याणकारी और मंगलकारी है। मान्यता है कि सच्चे मन से अगर महागौरी को पूजा जाए तो सभी संचित पाप नष्ट हो जाते हैं और भक्त को अलौकिक शक्तियां प्राप्त होती हैं। इस मौके पर जिलेभर में धर्म की बहार बह रही है। यहां मेले जैसा माहौल बना हुआ है। भक्त माता के दर्शन के लिए उमड़ रहे हैं। अनेक स्थानों पर विराजी मां जगत जननी माँ दुर्गा के आठवे स्वरूप महागौरी की विशेष पूजा अर्चना की गई। महागौरी की पूजा में भक्तों की भीड़ माता के भव्य स्वरूप के दर्शन को उमड़ा रहा है।

महागौरी के पूजन से नहीं होती अकाल मृत्यु

इनकी पूजा करने वाले की अकाल मृत्यु नहीं होती और उन्हें बुरी शक्तियों का भय भी नहीं सताता। मां का रूप देखने में तो बहुत भयंकर है पर मां बड़ी ही दयालु हैं। माता रानी की आराधना में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। इसलिए नवरात्र पर कन्या पूजन किया जाता है और उन्हें देवी के समान ही सम्मान दिया जाता है।

रमन ने किया नन्ही कन्याओं का पैर पूजन

नगर के पहाड़ी माई मंदिर में समिति सदस्यों के द्वारा आयोजित भंडारे में सुभाष जायसवाल,नगर पंचायत अध्यक्ष एवं सागर फाउंडेशन प्रमुख रमन अग्रवाल, गोपाल गुप्ता,अतुल गुप्ता,संतोष गुप्ता,मंटू केशरी, पंकज गुप्ता,निशांत गुप्ता,रवि सोनी,सुमित यादव, सुमिला कुशवाहा के द्वारा सक्रिय भूमिका निभाते हुए आयोजित भंडारे में भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया। भंडारे की कार्यक्रम का शुभारंभ नगर पंचायत अध्यक्ष रमन अग्रवाल ने माता स्वरूप नन्ही कन्याओं को पैर धोकर चंदन तिलक उपरांत उन्हें अंग वस्त्र प्रदान करते हुए कन्या भोज कराया तदुपरांत विशाल भंडारे के शुरुआत की गई जहां भक्तों ने माता रानी के दर्शन के साथ भंडारे का प्रसाद ग्रहण किया।


Share