अम्बिकापुर@बीमार महिला की प्यास से तड़प कर गई जान,परिजन का आरोप

53
Share

अम्बिकापुर 04 अक्टूबर 2021 (घटती-घटना)। मेडिकल कालेज अस्पताल में आए दिन कोई ना कोई ऐसा मामला सामने आ जाता है जिससे कि लोगों का विश्वास सरकारी अस्पताल की व्यवस्था से डगमगाने लगता है ऐसा ही एक मामला कल मेडिकल कालेज में हुआ है जिसमें अस्पताल में भर्ती एक महिला की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि महिला की मौत का कारण उसे पानी नहीं पिलाने देना है महिला को शनिवार को ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था तब से ही वह पानी मांग रही थी परन्तु ना तो अस्पताल स्टाफ ने खुद महिला को पानी पिलाया और ना ही परिजनों को पिलाने दिया। यही नहीं परिजनों द्वारा बार-बार चिकित्सक को भी बुलाने की मांग की जाती रही परन्तु स्टाफ नर्सों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ा और अंततः जिस अस्पताल में परिजन महिला की जान बचाने के उद्देश्य से उसे लेकर आए थे अव्यवस्था के कारण वहीं उसकी मौत हो गई।
इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार दरिमा थाना अंर्तगत ग्राम करजी शिवपुर निवासी 22 वर्षीय मायावती पति रामानंद यादव की तबियत शनिवार की शाम को अचानक खराब हो गई थी उसे तेज बुखार के साथ ही उसका ब्लड प्रेशर भी लो हो गया था जिसपर परिजनों द्वारा शाम 6 बजे महिला को उपचार के लिए मेडिकल कालेज अस्पताल लाकर भर्ती कराया गया था। परिजनों के अनुसार जब महिला को अस्पताल में लाया गया तब से वह पीने के लिए पानी की मांग कर रही थी परन्तु महिला को देखने आए चिकित्सक व स्टाफ नर्स ने पानी देने से मना कर दिया।
महिला को ग्लूकोज भी नहीं चढ़ाया गया तथा केवल कुछ दवाईयां लिखकर दे दी गई। परिजनों को कहना है कि शनिवार की पूरी रात और दिनभर बीमार महिला द्वारा पानी मांगा जाता रहा परन्तु अस्पताल के स्टाफ ने ना तो खुद मरीज को पानी दिया और ना ही परिजनो को पानी देने दिया। यही नहीं जब परिजन पानी लेने के लिए गए भी तो स्टाफ द्वारा डांट फटकार कर उन्हें पानी लाने से मना कर दिया गया।
परिजनों का यह भी आरोप है कि उनके द्वारा बीमार मायावती की गंभीर होती हालत को देखकर स्टाफ नर्सों से बार-बार चिकित्सक को भी बुला देने की गुहार लगाई जाती रही परन्तु स्टाफ नर्सों ने चिकित्सक को बुलाने से साफ मना कर दिया और कहा कि जो भी कहना है उनसे कहें अभी वे ही चिकित्सक हैं। अस्पताल के नर्सों की हठधर्मिता के कारण अंततः प्यास से व्याकुल बीमार महिला की कल रात 10 बजे मौत हो गई। महिला की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। परिजनों का आरोप है कि महिला की मौत शरीर में पानी की कमी के कारण हुई है और अस्पताल में महिला के बार-बार मांगने पर भी उसे एक बूंद भी पानी नहीं पिलाने दिया गया जिससे प्यास के कारण उसकी सांसे उखड़ गई।
मामले के संबंध में डॉ0 लखन सिंह, अस्पताल अधीक्षक ने कहा कि ऐसे किसी मामले की जानकारी नहीं है अस्पताल में 400 मरीजों का उपचार चलता ही रहता है ऐसे में किसी एक को पानी नहीं देने की बात सही नहीं लगती है फिर भी यदि ऐसी कोई शिकायत है तो उसे अवश्य देखा जाएगा।


Share