रायपुर @3 विधानसभा क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक

42
Share


कुछ मुद्दों को लेकर सरकार को घेरने की तैयारी,25 सदस्यीय समिति गठित करने का निर्णय


रायपुर 01 अक्टूबर 2021 (ए)। रायपुर के 3 विधानसभा क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक हुई है। सांसद, विधायक और पूर्व मंत्रियों ने यह बैठक ली। चावल घोटाला सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर प्रदेश सरकार को घेरने की रणनीति बनाई गई। बूथ स्तर पर 25 सदस्यीय समिति गठित करने का निर्णय लिया गया।
पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल दक्षिण विधानसभा के कार्यकर्ताओं की बैठक ले रहे। सांसद सुनील सोनी , मोतीलाल साहू , रायपुर शहर जिलाध्यक्ष श्रीचंद सुन्दरानी बैठक में मौजूद है। एकात्म परिसर में दिन भर से बैठक चल रही है।
कांग्रेस व प्रदेश सरकार में मचे घमासान ने इस पूर्व मुख्यमंत्री के शासनकाल की याद ताजा कर दी
रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने कांग्रेस और प्रदेश सरकार में चल रही अंर्तकलह पर निशाना साधते हुए कहा है कि भारी बहुमत से सत्ता में आई कांग्रेस सियासी अहंकार और सत्तालोलुपता में छत्तीसगढ़ में भी अपने वजूद बचाने की नियति के लिए अभिशप्त कर लिया है। श्री सिंहदेव ने कहा कि मतदाताओं को सब्जबाग दिखाकर हर वर्ग के साथ छलकपट, धोखाधड़ी और वादाखिलाफी करनेवाली प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ जैसे राजनीतिक तौर पर सुलझे हुए व शांत प्रदेश में अस्थिरता का वातावरण निर्मित कर दिया है।
श्री सिंहदेव ने कहा कि कांग्रेस और प्रदेश सरकार में मचे घमासान ने कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के शासनकाल की याद ताजा कर दी है। जोगी शासनकाल में राजनीतिक हत्याओं का दौर चला था और कांग्रेस के वर्तमान शासनकाल में कांग्रेस के ही एक विधायक ने अपनी ही सरकार के मंत्री पर हत्या कराने का आरोप लगाकर कांग्रेस के चरित्र को जगजाहिर करने का काम किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ठीक उसी तरह आज भी भ्रमित है जैसा कि जोगी शासनकाल में अपने शीर्ष और प्रादेशिक नेतृत्व के परस्पर विरोधाभासी बयानों के कारण थी।तब पूर्व मुख्यमंत्री जोगी प्रदेश में वन मेन शो चला रहे थे जिसके कारण बाकी सभी मंत्री खुद को असहाय महसूस कर रहे थे। सरकार के सारे फैसले सीएम हाउस में लिए जाते थे। कांग्रेस की मौजूदा प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल उसी तर्ज पर वन मेन शो चला रहे हैं और मंत्रियों को बिना जानकारी दिये, उन्हें बिना विश्वास में लिए फैसले किए जा रहे हैं और बैठकों से उन्हें दूर रखा जा रहा है।
सिंहदेव ने कहा अपने केन्द्रीय नेतृत्व को खुश करने और उनके प्रति स्वामी भक्ति दिखाने का काम भी ठीक उसी तरह चल रहा है जैसा अजीत जोगी के शासनकाल में होता था।


Share