सड़क की दुर्दशा को लेकर भाजयुमो ने किया चक्काजाम

142
?????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????
Share


राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम भी हुए प्रदर्शन में शामिल,एसडीएम व सीएसपी के साथ धक्का-मुक्की


बहुत दिनों बाद दिखा प्रदर्शन में शक्ति…रामविचार नेताम के नेतृत्व में ही संभाग में भाजपा का परचम लहरा सकता है…

?????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

अम्बिकापुर 30 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। छत्तीसगढ़ में सड़कों की दुर्दशा किसी से छिपी नहीं है। खासकर अंबिकापुर शहर व उससे निकलने वाली सड़कें बदहाल हो चुकी हैं। बनारस मार्ग पर तो बेहिसाब गड्ढे हैं, बारिश में गड्ढों में पानी भर जाता है तो धूप निकलते ही धूल उडऩे लगती है। इधर हाईकोर्ट ने भी सड़कों की दुर्दशा को लेकर राज्य सरकार पर टिप्पणी की है।
इस कड़ी में भारतीय जनता युवा मोर्चा के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने गुरुवार की दोपहर शहर के अंबेडकर चौक पर सड़क की खस्ता हालत को लेकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन से सड़क पर जाम लग गया। प्रदर्शन में राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम भी शामिल हुए।
इस दौरान एसडीएम-सीएसपी प्रदर्शनकारियों को हटाने पहुंचे। उन्होंने कहा कि चक्काजाम समाप्त नहीं किया तो गिरफ्तार करना पड़ेगा। इतना सुनते ही भाजयुमो कार्यकर्ता भड़क गए और फिर धक्का-मुक्की हो गई।
अंबिकापुर शहर की धूल उड़ाती व गड्ढों वाली सड़कों को लेकर भाजयुमो सरगुजा जिलाध्यक्ष विश्वविजय सिंह तोमर के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने अंबेडकर चौक पर जमकर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम भी शामिल हुए। नेताम ने कहा कि भाजपा की सरकार ने छत्तीसगढ़ के चहुमुंखी विकास का जो सपना देखा था वह चकनाचूर हो गया है।
चारों ओर आज जो सड़कों की हालत बनी हुई है, इससे लोग परेशान हैं। भाजयुमो जिलाध्यक्ष तोमर ने कहा कि शहर की सड़कों पर इतने गड्ढे व धूल हैं कि लोगों का इस पर चलना दूभर हो गया है। इस कारण सड़क दुर्घटनाओं में भी बढ़ोतरी हुई है। इसके बावजूद सरकार चुप बैठी है।
इस दौरान उन्होंने मंत्री टीएस सिंहदेव व अमरजीत भगत पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जनता परेशान है लेकिन ये दोनों गायब हैं। इस दौरान उन्होंने मंत्रीद्वय की इस्तीफे की भी मांग की।

एसडीएम-सीएसपी से झूमाझटकी

अंबेडकर चौक पर प्रदर्शन के दौरान बनारस मार्ग पर चक्काजाम की स्थिति निर्मित हो गई थी। यह देखते हुए एसडीएम प्रदीप साहू व सीएसपी पुष्कर शर्मा दल-बल के साथ वहां पहुंचे। उन्होंने सड़क जाम देख प्रदर्शन कारियों से हटने कहा। उन्होंने यह भी का कि चक्काजाम नहीं हटाने पर वे उनकी गिरफ्तारी भी करेंगे। यह सुनते ही कार्यकर्ता भड़क गए और प्रशासन-पुलिस के साथ उनकी धक्का-मुक्की हो गई। कार्यकर्ता धक्का देते हुए उन्हें कुछ दूर तक ले गए।

अंबिकापुर नहीं धूलपुर

भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने हाथों में तख्ती भी ले रखी थी। उस पर लिखा था कि यह अंबिकापुर नहीं धूलपुर है। धूलपुर में आपका स्वागत हैं। वहीं कुछ कार्यकर्ताओं ने मुंह पर ऑक्सीजन मास्क तथा सिर पर हेलमेट लगा रखा था।
उनका मानना था कि धूल से लोगों का सांस लेना दूभर हो गया है। वहीं बिना हेलमेट खस्ताहाल सड़क पर निकले तो जान भी जा सकती है।


मंत्री अमरजीत भगत को कहा थरहा भगत

भाजयुमो जिलाध्यक्ष ने मंत्री अमरजीत भगत को थरहा भगत की संज्ञा दी। उन्होंने कहा कि यदि मंत्री भगत को जनता की तनिक भी चिंता है तो वे हमारे साथ सड़क के लिए प्रदर्शन करें। उन्होंने कहा कि जब प्रदेश में भाजपा की सरकार थी तो मंत्री सीतापुर क्षेत्र में सड़क पर थरहा लगाते थे। अब उन्हें खस्ताहाल सड़क नहीं दिख रहा।


Share