एटीएम शटर टेंपरिंग के मामले में पुलिस ने
अंतरराज्यीय चोर गिरोह के एक को यूपी से किया गिरफ्तार

87
Share


अंबिकापुर में चार एटीएम मशीन में शटर टेंपरिंग कर निकाले थे पचास हजार रूपए

अम्बिकापुर 29 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। एटीएम शटर टेंपरिंग कर चोरी के मामले में पुलिस ने अंतरराज्यीय चोर गिरोह के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। 1 माह पूर्व शहर के चार अलग-अलग एटीएम मशीन से शटर टेंपरिंग कर बदमाशों ने 50 हजार रुपए निकाल दिए थे। मामले का खुलासा बुधवार को कोतवाली में एडिशनल एसपी ने किया।
एडिशनल एसपी विवेक शुक्ला ने बताया कि 28 अगस्त को टीएस कंपनी में डीई के पद पर कार्यरत राकेश सिंह द्वारा रिपोर्ट दर्ज कराई गई कि अम्बिकापुर के चार अलग-अलग एसबीआई एटीएम में अज्ञात व्यक्तियों के द्वारा 28 अगस्त को कुल 50 हजार रूपए एटीएम की शटर टेंपरिंग कर चोरी की गई। जिस पर अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। आरोपी द्वारा बैंक की आर्थिक क्षति की जा रही थी। विवेचना मामले की को देखते हुए पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा रेज सरगुजा अजय यादव के मार्गदर्शन में पुलिस अधीक्षक अमित तुकाराम काबले के द्वारा अज्ञात आरोपी की पतासाजी एवं मशरूका बरामदगी हेतु अति पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला, नगर पुलिस अधीक्षक, पुलिस अनुविभागीय अधिकारी अखिलेश कौशिक के नेतृत्व में अम्बिकापुर एवं जिले में पदस्थ अधिकारी, कर्मचारियों की टीम गठित कर विभिन्न सीसीटीवी फूटेज एवं तकनीकी सहायता के माध्यम से संदिग्ध मोबाइल नंबरों की पहचान कर विशेष टीम उत्तरप्रदेश प्रतापगढ़ थाना गई थी। जहां प्रतापगढ़ से संदिग्ध 27 वर्षीय अनिल कुमार सरोज पिता रामचंद्र सरोज को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। उसके द्वारा अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर अम्बिकापुर के 4 एटीएम से 50 हजार रूपए व इसके अतिरिक्त कुनकुरी के 1 एटीएम से 8 हजार 5 सौ एवं उड़ीसा के दो एटीएम से 19 हजार 500 रुपए कुल 78 हजार चोरी करना स्वीकार किया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जल दाखिल कर दिया है।
पुलिस द्वारा घटना में प्रयुक्त वाहन महिन्दा क्रमांक यूपी 72 ए एस 6745 को जब्त कर चोरी के पैसे को जमा किये खाते को भी होल्ड कराकर एटीएम को जब्त किया गया है एवं आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। शेष अन्य दो आरोपियों की तलाश जारी है।

सीसीटीवी फुटेज वह तकनीक सहायता से आरोपी तक पहुंची पुलिस

पुलिस अज्ञात के खिलाफ अपराध दर्ज कर आरोपियों की तलाश कर रही थी। पुलिस ने आरोपियों तक पहुंचने के लिए शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे व तकनीक सहायता की मदद ली। पुलिस ने संदिग्ध मोबाइल था नंबरों की पहचान कर आरोपियों को पकड़ने के लिए विशेष टीम का गठन किया गया था।

बैंक को लगाते थे चुना

आरोपियों द्वारा विशेष रुप से एटीएम मशीन में टेंपरिंग का काम किया जाता था। एक ऐसी ग्राहक का एटीएम उसके पैसे को नहीं निकालते थे। शटर टेंपरिंग कर बैंक को चूना लगाते थे। इसका पैसा निकाले जाने का कोई मैसेज या इंट्री मशीन में नहीं हो पाता था। इससे बैंक कर्मियों को भी पता नहीं चल पा रहा था।

कार्रवाई में ये रहे शामिल

कोतवाली निरीक्षक अनूप एक्का, उप निरीक्षक शिशिरकांत सिंह, रश्मि सिंह राज, ओ पी यादव, सउनि भुपेश सिंह, प्र. आर. सुधीर सिंह, अनूप कुजूर, आर राकेश शर्मा, विकास सिंह, रूपेश महंत, अमित ज्ञान खलखो, सुयश पैकरा, विरेन्द्र पैकरा, राजकुमार यादव, शिव राजवाड़े, जानकी प्रसाद राजवाड़े, इजहार अहमद का विशेष योगदान रहा।


Share