खड़गवां @प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में सरकारी धन का बंदरबांट

103
Share

शिकायतों की अनदेखी,निरीक्षण के बिना ठेकेदारों के बिल हो रहे पास,करोड़ों की लागत से बनी सड़कें चंद महीनों में हो रही खस्ताहाल

ग्रामीण क्षेत्रों में खराब सड़कों की शिकायत के बाद भी सरकार नींद में,अधिकारियों की मिलीभगत से ठेकेदार बेखौफ,अधिकांश सड़कें पहली बरसात में ही हुई क्षतिग्रस्त

राजेन्द्र शर्मा-
खड़गवां 8 जनवरी 2022 (घटती-घटना)। छत्तीसगढ़ राज्य में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत करोड़ो की लागत से बनी सड़कें घटिया निर्माण और गुणवत्ताहीन होने के चलते चंद महीनों में ही दम तोड़ दे रही हैं। आवागमन की सुलभ सुविधा उपलब्ध कराने के नाम पर प्रशासनिक अमला ठेकेदारों के साथ सांठगांठ करके सड़क निर्माण को सजावट की तरह परोस रहे हैं जो चंद दिनों में जर्जर अवस्था में पहुंच कर लोगों की मुसीबतों को और बढ़ा रही हैं। घटिया सड़कें निर्माण के चंद महीनों में ही इतनी खराब हो रही हैं कि उस पर चलना दूभर हो रहा है। लोगों को खराब और धूल भरी सड़कों से स्वास्थ्यगत परेशानियों से भी जूझना पड़ रहा है। अधिकारियों की ठेकेदारों से मिलीभगत और सरकार और विभाग की चुप्पी से इस योजना के तहत बनाई जा रही सड़कों में व्यापक भ्रष्टाचार हो रहा है। अधिकारी मोटी कमीशन लेकर ठेकेदारों को मनमानी करने खुली छुट दे रहे हैं जिसके चलते गुणवत्ता और मापदंडों को ताक पर रखकर सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। शिकायतों के बाद भी ठेकेदारों और उन्हें संरक्षण देने वाले अधिकारियों पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं होती। जिससे इनके हौसले बुलंद हैं और योजना के नाम पर सरकारी धन को लूटा जा रहा है।
जानकारी के अनुसार सरसताल से जरौधा को जोडऩे के लिए लगभग 10.80 किलोमीटर तक सड़क निर्माण किया जाना है। जिसमें बीच बीच पर सीमेंट पोल लगाकर पुलिया निर्माण किया जाना है। करोड़ो रूपये से बनने वाले यह सड़क भ्रष्टाचार का भेंट चढ़ रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी से उक्त अधिकारी का मंत्री और सचिव स्तर पर पकड़ व पहुंच होने के कारण ठेकेदार बेधड़क बेखौफ घटिया निर्माणकर सरकारी पैसों का बंदरबाट कर रहे हैं। जबकि खड़गवां ब्लाक में योजना के क्रियान्वयन के लिये सबसे जिम्मेदार अधिकारी होने के नाते भ्रष्टाचार विहिन निर्माण कार्य सुनिश्चित करना उनका दायित्व है। इस संबंध में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के साइड इंजार्ज सब इंजिनियर नीरज अग्रवाल से दूरभाष से सड़क निर्माण कार्य की जानकारी चाही तो उन्होंने ने सड़क की गुणवत्ता पर गोलमोल जवाब दिया और फोन कटा दिया गया।

यह कहना है अधिकारियो का

इस संबंध में विभाग के सब इंजीनियर नीरज अग्रवाल से दूरभाष के माध्यम से जानकारी चाही की सड़क निर्माण कार्य में ठेकेदार के द्वारा डब्लू एम एम प्लांट से समाग्री का मिश्रण कर सड़क पर नहीं बिछाया जा रहा है जबकि ठेकेदार के द्वारा निमार्ण कार्य में डब्लूएमएम प्लांट से समाग्री मिश्रण कर सडक का निर्माण कार्य किया जाना है इस संबंध में सब इंजीनियर ने कहा कि किया गया है जबकि निमार्ण कार्य क्षेत्र में कहीं भी डब्लूएमएम प्लांट नहीं लगा है और सी सी कार्य के लिए आर एस सी प्लांट लगाकर सी सी करना होता है जो शर्तें और नियम के तहत कार्य किया जाना है वो नहीं किया गया है और करोड़ों रूपए की सड़क भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है।

कोरिया जिले में भी घटिया निर्माण की शिकायत

कोरिया जिले के खड़गवां ब्लाक के ग्राम सरसताल से जरौधा फुनगा सर सरई झरिया के बीच बन रहे प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना अंतर्गत घटिया सड़क निर्माण कार्य हो रहा है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सडक निर्माण कार्य और बन रहे पुलिया के निर्माण में गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने इसकी जांच की मांग की है। शिकायत के बाद भी ठेकेदार द्वारा गुणवत्ता में सुधार न किए जाने से परेशान ग्रामीणों ने इसकी शिकायत जनपद पंचायत सदस्य पवन कुमार नेटी से की। शिकायत पर निरीक्षण करने पर जनपद पंचायत सदस्य पवन कुमार नेटी सडक निर्माण कार्य और पुलिया निर्माण कार्य गुणवत्ताहीन कार्य स्तरहीन कंपनी के सीमेंट का उपयोग कर निर्माण कार्य किया जा रहा है। पवन कुमार नेटी ने बताया कि केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में एक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का उद्देश्य पहुंचविहीन गांवों में सड़कों का जाल बिछाकर सुगमता से आवागमन के साथ शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ावा देना होता है। लेकिन इसके विपरीत ठेकेदार और विभागीय अधिकारी की मिलीभगत से इस योजना पर पतीला लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस सड़क और घटिया पुलिया निर्माण में जिस तरह नियमों के विपरीत सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा है.उससे राहगीरों सहित ग्रामीणों के लिए जानलेवा साबित होगा और लोग बड़ी दुर्घटना के शिकार हो सकते है।

गुणवत्ता-मानक दरकिनार, खुलेआम हो रहा भ्रष्टाचार

कोरिया जिले में खड़गवां के सारस ताल से जरौधा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की पूर्ण रूप से गुणवत्ता विहीन निर्माण हो रही है जिले में पिछले साल चार पांच सालों में जितनी भी सड़कें प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनाई गई अथवा बनाई जा रही हैं् उनमें गुणवत्ता और मापदंडों को नजरअंदाज कर घटिया निर्माण ठेकेदारों ने किया है और सभी निर्माण वहां सालों से काबिज ईई के देखरेख में हो रहा है। खराब सड़कों को लेकर जनप्रतिनिधि और ग्रामीण लगातार शिकायत करते आ रहे हैं लेकिन न तो जांच होती है और न सड़कों का स्तर सुधारा जाता है। घटिया निर्माण के बाद भी ठेकेदारों के बिल आसानी से पास हो रहे हैं। घटिया निर्माण करने वाले ठेकेदारों पर कार्रवाई तो दूर उन्हें खराब सड़कों के मेंटनेंस के लिए भी बाध्य नहीं किया जाता। कोरिया जिले के खड़गवां ब्लाक में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में व्यापक भ्रष्टाचार को वहां सालों से पदस्थ कार्यपालन यंत्री प्रत्यक्ष रूप से बढ़ावा दे रहे हैं। ठेकेदारों के साथ सांठगांठ कर कमीशनखोरी के कारण ही इलाके में घटिया सड़कों का निर्माण किया जा रहा है।


Share