रायपुर @ बढ़ते सड़क हादसों ने महसूस करवाया कि सड़क सुरक्षा और यातायात नियमों को पाठ्यक्रम में पढ़ढ़ना है जरुरी

30
Share


रायपुर,24 नवम्बर 2021 (ए)। राज्य के स्कूलों में कक्षा एक से दसवीं तक के पाठ्यक्रम में सड़क सुरक्षा और यातायात नियमों से जुड़ी शिक्षा अनिवार्य रूप से शामिल की जाएगी। स्कूली शिक्षा विभाग के तहत आने वाली पाठ्य पुस्तकों में यातायात शिक्षा सामग्री को शामिल किया जाए, छात्रों में सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता के लिए सभी सामग्रियों को शामिल किया जाए।
दरअसल, लगातार हो रहे सड़क हादसों ने शासन और प्रशासन को ये सोचने पर मजबूर कर दिया। मुख्य सचिव अमिताभ जैन की अध्यक्षता में बुधवार को मंत्रालय महानदी भवन में वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान सड़क सुरक्षा की समीक्षा बैठक में इस आवश्यकता पर विशेष रूप से चर्चा हुई।
मिुख्य सचिव ने कहा कि आज जिस रफ्तार से सड़क हादसों में लोगों की मौत हो रही है, उससे निश्चित है कि आज भी आम लोगों में जागरूकता की भारी कमी है। इसके लिए स्कूल स्तर से ही प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा, इसके लिए स्कूलों में छोटे-छोटे प्रयास करने होंगे। छात्रों में सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता बढ़ाने के कार्यक्रम पर जोर देना होगा। उन्होंने कहा कि, विद्यालयों में कौन बनेगा सड़क सुरक्षा चैम्पियन जैसे कार्यक्रमों का क्रियान्वयन किया जा रहा है। विद्यार्थियों को सड़क सुरक्षा से संबंधित प्रोजेक्ट वर्क भी दिए जा रहे है।
अब तक विद्यालयों में यातायात संबंधित नियमों पर आधारित 4578 म्जि का आयोजन किया जा चुका है और विजेता अपना सर्टिफिकेट ऑनलाइन प्राप्त कर रहें है। इस दौरान स्कूल बस संचालन में मानक व्यवस्था स्थापित करने संबंधित कार्यवाही पर चर्चा हुई। मुख्य सचिव ने राज्य के सभी जिलों के कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को सड़क दुर्घटना के कारणों की समीक्षा और सुधारात्मक उपाय करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऐसे जंक्शन जहां दुर्घटना अधिक हो रहे है, जिलेवार सघन अध्ययन कर आवश्यक कार्यवाही करें।


Share