बैकु΄ठपुर@तहसीलदार के अगुवाई में चार सदस्यीय टीम तैयार,मोटल का निरीक्षण कर बनायेगी इस्टीमेट

94
Share

  • रवि सिंह-

बैकु΄ठपुर 07 नवम्बर 2021 (घटती-घटना)। 3 नवम्बर को कोरिया कलेक्टर श्याम धावड़े द्वारा नेशलन हाईवे 43 में स्थित पर्यटन विभाग द्वारा निर्मित मोटल निरीक्षण पर नाराजगी जाहिर कर मौजुद तहसीलदार भीष्म पटेल को टीम बनाकर मोटल के सम्बन्धित जानकारी के साथ एस्टीमेट तैयार करने की बात कही थी। इसके पश्चात नायब तहसीलदार भीष्म पटेल ने भवन को दुरस्त करने चार सदस्यीय टीम तैयार कर लिया है जिस टीम में डिप्टी कलेक्टर प्रषांत कुशवाहा, कार्यपालन अभियंता ग्रामीण यांत्रिक सेवा कोरिया, स्वयं तहसीलदार भीष्म पटेल के साथ पटना थाना प्रभारी सौरव द्विवेदी होंगे। इन सब के सहयोग के लिये पटना सरपंच गायत्री सिंह को शामिल किया गया है।
15 साल पहले बने थ्री स्टार मोटल जो लगभग एक करोड़ो की लागत से पर्यटन विभाग द्वारा बनायी गयी थी जहां मोटल रख-रखाव के कमी से यह भवन पूरी तरह से कंडम हो गयी। इसके जीर्णोद्धार के लिये स्थानीय जनों ने कई बार सम्बन्धित जिम्मेदारों को इसके लिये कलेक्टर से लेकर विधायक तक कई बार पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया है। जिस पर कलेक्टर श्याम धावड़े ने 03 नवम्बर को चिरगुड़ा ग्राम पंचायत में स्थित मोटल का निरीक्षण किया। जहां इस भवन की दुर्दषा देखकर नाराज हुए और इसके जीर्णोद्वार करने डिप्टी कलेक्टर की अगुवाई में चार सदस्यीय टीम का गठन करने को तहसीलदार को निर्देष दिया था।

पहले कलेक्टर जिन्होंने मोटल का किया निरीक्षण

लोगों के अनुसार लगभग 15 साल पहले बने भवन 2005-06 में किया गया था। जब यह भवन बना तब भाजपा की सरकार थी वहीं यह भवन बनकर तैयार होने के बाद भवन की स्थिति देखने बीते 15 सालों में एक भी जिम्मेदार यहां नहीं आये। वहीं भाजपा की सरकार रही तब इस भवन बनने के बाद लोकापर्ण के समय विधानसभा का चुनाव आना था और उसका श्रेय लेने के लिये इसका लोकापर्ण तक नहीं हो सका। 3 अक्टूबर 2006 को जल्दबाजी में तात्कालीन पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने इसका उद्वाटन किया। तब से यहां कोई नहीं आया।

भवन के ढांचा के अलावा अंदर कुछ नहीं

मोटल के भीतर रखा समान व टाईल्स तक चोरी हो गयी है। समुचित रख रखाव के अभाव में फर्नीचर चोरी हो गयी वहीं इसकी खबर विभाग को लगी तो बचे हुये किमती सामान 10 साल पहले विभाग के जिम्मेदार द्वारा यहां का सामान मैनपाठ के रिसोर्ट में रखवा दिया। इस भवन में वर्तमान में बचे लकड़ी के फर्नीचर पर दीमक द्वारा नष्ट कर दिया गया। वाल टाईल्स चोरो द्वारा उखाड़कर ले गये। बचे नल फिटींग के सामान भी चोरी हो गये। इस भवन में फिर से रौनक लाने के लिये ढांचा छोड़कर इंटिरियर पर पूरा ध्यान देना होगा। तब जाकर इस भवन में पहले जैसी रौनक लौटेगी।


Share