रामानुजगंज@रामचंद्रपुर जनपद पंचायत की सामान्य सभा में फर्जी हस्ताक्षर को लेकर सदस्यों ने कि बलरामपुर कलेक्टर से शिकायत

101
Share

रामानुजगंज 04 अक्टूबर 2021 (घटती-घटना)। जनपद पंचायत रामचंद्रपुर के सामान्य सभा मे उस वक़्त हंगामा मच गया जब महिला जनपद सदस्य के जगह उसके पति के द्वारा हस्ताक्षर किया जा रहा था बताया जा रहा है कि 15 वां वित्त की राशि को लेकर हंगामा हुआ है जहां फर्जी हस्ताक्षर के माध्यम से 15 वां वित की राशि का बंदरबांट किया जा रहा था जिसके खिलाफ जनपद उपाध्यक्ष बीडी लाल गुप्ता के नेतृत्व में कुल 11 जनपद सदस्यों ने कलेक्टर को ज्ञापन देकर जांच की मांग की गई है। गौरतलब है कि बीते दिनों जनपद पंचायत रामचंद्रपुर में सामान्य सभा का बैठक बुलाया गया था जिसमें कुछ महिला जनपद सदस्य अनुपस्थित थे उसके बदले उनके पति के द्वारा हस्ताक्षर कर 15 वे वित्त के राशि का बंदरबांट किया जा रहा था जिसे लेकर जनपद उपाध्यक्ष एवं 11 जनपद सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया। तत्पश्चात आक्रोशित जनपद उपाध्यक्ष सहित सभी जनपद सदस्य लिखित में बलरामपुर कलेक्टर को हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन देकर जांच कर उचित कार्रवाई की मांग करते जनपद सदस्यों ने ज्ञापन में आरोप लगाया है की मुख्य कार्यपालन अधिकारी रामचंद्रपुर के द्वारा सत्ता पक्ष के दबाव में आकर सत्ताधारी जनपद सदस्य को 15 वे वित्त की राशि नियम विरुद्ध प्रदान कर अन्य जनपद सदस्यों के साथ भेदभाव किया है ज्ञापन में बताया गया है कि इस संबंध में कई बार मुख्य कार्यपालन अधिकारी को अवगत भी कराया गया परंतु मुख्य कार्यपालन अधिकारी के द्वारा इस संबंध में कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया जिससे प्रताडç¸त जनपद सदस्य इस पूरे मामले में मुख्य कार्यपालन अधिकारी रामचंद्रपुर की शिकायत करते हुए जिला पंचायत सीईओ एवं कलेक्टर के नाम हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन देकर उचित कार्रवाई की मांग की है इस दौरान मुख्य रूप से जनपद उपाध्यक्ष बी डी लाल गुप्ता जनपद सदस्य सुश्री प्रतिभा सिंह एवं सीताराम गुप्ता मुख्य रूप से उपस्थित थे।
अतिरिक्त प्रभार में बने सीईओ ले रहे मलाई का आनंद
प्रताडç¸त जनपद सदस्यों ने आरोप लगाया है कि मुख्य कार्यपालन अधिकारी रोबिनसन कुजूर असल में कृषि विभाग के अधिकारी हैं परंतु सत्ता पक्ष के साथ खास लगाओ होने के कारण मलाईदार विभाग कहे जाने वाले जनपद सीईओ की अतिरिक्त प्रभार भी इन्हीं के हाथों में हैं परिणाम स्वरूप जनपद संभल नहीं रही कृषि विभाग बस सत्ताधारी नेता जो कह दे वही सही है ऐसा मानकर चुनिंदा जनपद सदस्यों को विशेष तवज्जो देते हुए अन्य जनपद सदस्यों के साथ भेदभाव किया जाता रहा है बताया जाता है कि मुख्य कार्यपालन अधिकारी इस मलाईदार पोस्ट को पाने के लिए जिनके आशीर्वाद से सीईओ बने आज उन्हीं का एहसान चुकाते हुए सिर्फ उनके इशारों पर जनपद को भेदभाव पूर्ण तरीके से चलाने का प्रयास किया जा रहा है जनपद सदस्यों ने कहा कि यदि जिला प्रशासन हमारी मांगों पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं करती है तो हम लोग मुख्य सचिव तक जाने को बाध्य होंगे और एक वृहद आंदोलन छोड़ेंगे जो गांव-गांव तक जाएगी।


Share