वॉयरस की चपेट में आने 24 घंटे के भीतर कुमकी हाथियों दो शवको ने तोड़ा दम

221
Share


सूरजपुर जिले के रमकोला स्थित तमोर पिंगला अभयारण्य में रखा गया है हाथियों को

अम्बिकापुर 24 सितम्बर 2021 (घटती-घटना)। सरगुजा संभाग के बिगड़ैल हाथियों को सुधारने 5 कुमकी हाथियों को लाकर सूरजपुर जिले के रमकोला स्थित तमोर पिंगला अभयारण्य में रखा गया है। यहां कुमकी हाथियों ने 2 शावकों लक्ष्मण व रेवा को जन्म दिया था। इसी बीच अज्ञात वायरस की चपेट में आ जान से 23 सितंबर की शाम शावक लक्ष्मण की मौत हो गई।
वहीं इस घटना के 24 घंटे के भीतर शावक रेवा ने भी गुरुवार की दोपहर दम तोड़ दिया। एक साथ दोनों शावकों की मौत से वन अधिकारी-कर्मचारी जहां सकते में हैं वहीं अन्य हाथियों को लेकर भी उनकी चिंता बढ़ गई है। 3 डॉक्टरों की टीम ने दोनों शावकों के शवों का पीएम किया। दोनों के एचवी-1 वायरस की चपेट में आने की आशंका जताई जा रही है।
गौरतलब है कि सरगुजा संभाग में मानव व हाथियों के द्वंद्व को रोकने मैसूर के दुबारे एलिफैंट कैंप से 5 कुमकी हाथियों को 4 साल पूर्व लाकर तमोर पिंगला अभयारण्य में लाया गया था। 5 कुमकी हाथियों के साथ 2 अन्य हाथियों को रखा गया है। हथिनी युगलक्ष्मी और हाथी गंगा से रेवा और लक्ष्मण शावक ने जन्म लिया था।
22 सितंबर की दोपहर लक्ष्मण की तबियत खराब हुई तो उसके अज्ञात वायरस से संक्रमित होने की बात सामने आई थी। वायरस के एचवी-1 होने की सम्भावना जताई गई थी। डॉक्टरों द्वारा उसका इलाज किया जा रहा था। इसी बीच गुरुवार की शाम लक्ष्मण जिंदगी की जंग हार गया।

शावक रेवा ने भी तोड़ा दम

शावक लक्ष्मण के बाद शावक रेवा में भी संक्रमण की संभावना थी। इस कारण उसे अलग रख इलाज किया जा रहा था, बाकी हाथियों को भी दूर बांधकर रखा गया था। वायरल रोकने कई प्रकार के सेनेटाइजर का छिड़काव किया जा रहा था। रेवा के इलाज और संक्रमण की सम्भावना को देखते हुए और डॉक्टरों की टीम यहां पहुंच गई थी।
24 सितंबर की स्थिति में रेवा की स्थिति सामान्य लग रही थी, इसी बीच दोपहर करीब डेढ़ बजे उसने भी दम तोड़ दिया। 24 घंटे के भीतर दोनों शावकों की मौत से वन विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। इधर पीएम पश्चात दोनों शावकों का रेस्क्यू सेंटर में ही अंतिम संस्कार कर दिया गया।

जांच के लिए लिया गया सैंपल

शावक लक्ष्मण की मौत के बाद एचवी-1 के लिए लिए गए सैम्पल की रिपोर्ट तो नहीं आई है लेकिन माना जा रहा है कि इसी वायरस की चपेट में दोनों आए हैं। बताया जा रहा है कि एचवी-1 वायरस तेजी से असर डालता है और संभलने का मौका नहीं देता।
24 घंटे में दोनों शावकों की मौत से वन विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। सीएफ के. मैथ्यू भी तमोर पिंगला अभयारण्य पहुंचे थे। वन विभाग के सामने अब सबसे बड़ी चिंता बाकी हाथियों को लेकर है कि कहीं वे भी संक्रमित न हो गए हों।


Share